आम आदमी पार्टी की महिला नेता ने बढ़ते कोरोना के लिए ठहराया राम मंदिर को जिम्मेदार

अभी देश भर में कोरोना अपने पाँव दूसरी लहर के रूप में काफी अधिक तेजी के साथ में पसार रहा है और ऐसे वक्त में हर कोई काफी अधिक परेशान हो रखा है. तो फिर क्या किया जाए? जिसको काम करना है वो तो काम कर रहे है लेकिन जिसे राजनीति करनी है वो इस पर भी राजनीति कर रहे है. ऐसा ही कुछ नजारा आम आदमी पार्टी से जुड़े नेताओं के बीच में भी नजर आया जिन्होंने बढ़ते कोरोना को राम मंदिर से ही जोड़ दिया और फिर सोशल मीडिया पर ट्रोल भी जमकर के हुए है.

आप नेशनल सोशल मीडिया टीम में है अंकिता शाह, राम मंदिर को बढ़ते केसेज से जोड़ा
आम आदमी पार्टी से जुडी हुई अंकिता शाह ने अपने ट्वीट में लिखा ‘वो बेवकूफ कहाँ पर है जो राम मंदिर के लिए चन्दा जमा कर रहे थे? काश ये सरकारों से मंदिरों की जगह पर अस्पताल मांगे होते तो आज ये दशा न होती.’ इसके बाद में अंकिता शाह अंग्रेजी का इस्तेमाल करते हुए राम मंदिर के सपोर्ट में खड़े लोगो को काफी बुरी गाली भी देती है.

ऐसे मे कई लोगो को इस बात को लेकर के काफी अधिक बुरा भी लगा है और हम इस चीज को समझ सकते है कि राम मंदिर को केसेज से जोड़े जाने को लेकर के लोगो में कितना अधिक बुरा प्रभाव और असर गया है. बहुत ही बड़ी संख्या में आम आदमी पार्टी की इस नेता को ट्रोल किया गया है और उनको लोगो की आस्था को बाकी चीजो से न जोड़ने की सलाह दी जा रही है.

हालांकि खुद आम आदमी पार्टी ने आधिकारिक रूप से इस पर अब तक कुछ भी स्पष्ट किया नही है कि क्या वो अंकिता शाह के इस तरह के बयान का समर्थन करती है या फिर नही करती है क्योंकि कुछ वक्त पहले केजरीवाल खुदको हनुमान भक्त बता रहे थे और अब उनके ही अपने करीबी नेता राम मंदिर का अपमान करने पर उतारू हो गये है.