पश्चिम बंगाल के दुसरे चरण के चुनाव की आज हो रही वोटिंग, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और भाजपा की ओर से शुभेंदु अधिकरी के बीच संग्राम

ऐसे तो चुनाव देश के पांच राज्यों में होने वाले है लेकिन सबसे ज्यादा ध्यान केन्द्रित करने वाला चुनाव पश्चिम बंगाल में हो रहा है आप को बता दें कि पश्चिम बंगाल में पहले चरण का चुनाव हो चूका है और आज पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दुसरे चरण में आज 30 सीटों पर वोटिंग हो रहा है. बंगाल में 75 लाख वोटर्स 191 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे. पश्चिम बंगाल में दुसरे चरण का चुनाव इसलिए भी महत्वपूर्ण है. क्योकि यहाँ मुकाबला मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और कभी उनके सहयोगी रहे शुभेंदु अधिकारी के बीच है. जो इस बार बीजेपी के टिकट पर चुनावी मैदान में है. चुनाव जीतने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और शुभेंदु अधिकारी यानि की दोनों उम्मीदवारों ने कोई कमी नहीं छोड़ी है.

तो वहीँ डेबरा में दो पूर्व आईपीएस आमने सामने हैं. ऐसे ही करीब आधा दर्जन सीटें दूसरे चरण की हैं, जहां के चुनाव पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं. आपको बता दें कि दोनों सीआईडी में एक-दूसरे के साथ अपराधियों के खिलाफ काम कर चुके हैं. बीजेपी से पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष चुनावी मैदान में है तो टीएमसी से पूर्व आईपीएस अधिकारी हुमायूं कबीर किस्मत आजमा रहे हैं. ऐसे में दोनों ही पूर्व आईपीएस के बीच कांटे का मुकाबला माना जा रहा है.

आप को बता दें कि आज हो रही पोलिंग के लिए निर्वाचन आयोग EC ने सभी 10620 पोलिंग बूथों को संवेदनशील घोषित किया है. इस चरण के चुनाव की निगरानी के लिए केन्द्रीय बलों के करीब 651 कंपनियों को तैनाथ किया गया है. महत्वपूर्ण स्थानों पर राज्य के पुलिस कर्मी भी तैनाथ किए गये है. जानकारी के मुताबिक केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल की 199 कंपनी पूर्व मोदिनीपूर में तो 210 कंपनी पश्चिम मोदिनीपूर में तैनाथ की गई है. वहीँ दक्षिण 24 परगना में 170 कंपनियां और बकुड़ा में 72 कंपनियां तैनाथ हैं.

पश्चिम बंगाल के पश्चिमी मेदिनीपुर जिले की साबंग विधानसभा सीट पर काफी रोचक मुकाबला माना जा रहा है. यहां से टीएमसी के मानस रंजन भुइंया मैदान में है, जिनके खिलाफ बीजेपी से अमूल माइति हैं. मानस भुइंया की यह परंपरागत सीट मानी जाती है वो लगातार तीन बार से इस सीट से कांग्रेस के विधायक रहे हैं, लेकिन इस बार टीएमसी से मैदान में है. उन्होंने पिछले चुनाव में टीएमसी के निर्मल घोष को हराया था.