‘घबराओ मत, शवों के साथ रैली का इंतजाम करो…’ कूच बिहार हिंसा पर ममता बनर्जी के वायरल ऑडियो से मचा हंगामा

ज्यादा दिन नहीं हुए जब चौथे चरण के मतदान के दिन 10 अप्रैल को पश्चिम बंगाल के कूच बिहार के सीतलकूची में हिं’सा हुई थी. सैकड़ों लोगों की भीड़ ने केंद्रीय सुरक्षा बलों की घेर लिया और उनके हथि’यार छिनने की कोशिश की जिसके बाद सुरक्षा बलों को फाय’रिंग करनी पड़ी और 4 लोग मा’रे गए थे. राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे ह’त्या बताया था और म’रने वाले लोगों को शहीद. ये हिं’सा ममता बनर्जी के उस भाषण का परिणाम था जो उन्होंने शीतलकूची में ही दिया था कि सुरक्षा बलों को घेर लो और उन पर ह’मला करो. अब इस घटना के 7 दिनों बाद भाजपा ने एक ऑडियो टेप जारी किया और दावा किया कि हिं’सा में मारे गए लोगों के शवों के साथ ममता बनर्जी ने रैली निकाल कर किस तरह इलाके में साम्प्रदायिक माहौल बिगाड़ने की साजिश रची थी. इस ऑडियो टेप में ममता बनर्जी की आवाज होने का दावा किया जा रहा है और वो सीतलकूची से TMC उम्मीदवार पार्थ प्रतिम राय के साथ बात कर उन्हें निर्देश दे रही हैं. हालाँकि द चौपाल इस ऑडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करता.

इस ऑडियो में ममता बनर्जी राय से कहती हैं, ‘मतदान खत्म होने तक गुस्सा शांत रखें. ‘घबराइए मत. आप अगले दिन श’वों के साथ रैली करने के इंतजाम करें और वकील से विमर्श करें तथा पुलिस में शिकायत दर्ज कराएं जिससे कि न तो एसपी बच सके और न ही आईसी.‘ ये पूरी बातचीत बंगाली में है.

ऑडियो क्लिप को जारी करते हुए भाजपा आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने कहा, ‘ममता बनर्जी अपनी पार्टी के उम्मीदवार से कह रही हैं कि मामला इस तरह का बनाया जाए कि कूचबिहार पुलिस अधीक्षक और केंद्रीय बलों के कर्मियों-दोनों को फंसाया जा सके. क्या किसी मुख्यमंत्री से ऐसी उम्मीद की जाती है? वह केवल अल्पसंख्यकों के वोट हासिल करने के लिए भय का माहौल पैदा करने की कोशिश कर रही हैं.’ बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आरोप लगाया कि राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस तुच्छ राजनीतिक स्वार्थ के लिए लोगों की मौत पर राजनीति कर रही है. उन्हें खुद पर शर्म आनी चाहिए.

हालाँकि TMC ने इस ऑडियो को फर्जी करार दिया है. वहीँ सीतलकूची से TMC उम्मीदवार पार्थ प्रतिम राय ने कहा है कि इस तरह की बातचीत कभी नहीं हुई. बीजेपी पांचवें दौर के मतदान से पहले लोगों को केवल गुमराह करने की कोशिश कर रही है. इससे पहले ममता बनर्जी नंदीग्राम में भाजपा नेता से मदद मांग अपनी फजीहत करवा चुकी हैं. उस वक़्त भी TMC ने ऑडियो क्लिप को फर्जी बताया था लेकिन बाद में ममता बनर्जी ने ही उस बात को स्वीकार लिया था. अब पांचवे चरण के मतदान से पहले सामने आई नयी ऑडियो क्लिप ममता बनर्जी की मुश्किलें बढाने वाला है.