इस जिले में जमकर हुई बारिश, आंधी और ओलों ने मचाई तबाही

ललितपुर. यूपी में मौसम (weather Update) ने अचानक करवट बदल लिया। ललितपुर जिले में रविवार दोपहर मौसम अचानक खराब होना शुरू हो गया था और शाम होते-होते आसमान में काली घटाएं घिर आई थी। बादलों की गड़गड़ाहट, चमकती बिजली के साथ हल्की बरसात (rain) शुरू हुई। और ओले (Hail) भी गिरे। साथ आई तेज आंधी (storm) ने पूरे इलाके में जमकर तबाही मचाई। कई पेड़ उखड़ गए। कई पेड़ टूटकर दूर खड़ी कार पर जा गिरे, जिससे कार क्षतिग्रस्त हो गई। इतना ही नहीं तेज आंधी के प्रकोप में कई मकानों की टीन टप्पर उड़ गये तो कई कच्चे मकानों की दीवारें धराशाई हो गई और मलबे के नीचे दबकर एक ही परिवार के करीब आधा दर्जन सदस्य गंभीर रूप से घायल हुए जिन्हें इलाज के लिए चिकित्सालय में भर्ती कराना पड़ा।

अब गोबर से बने लट्ठ की ऑनलाइन बिक्री शुरू, जानिए कीमत व इसकी खासियत

आंधी की वजह से फसलों में लगी आग :- जनपद ललितपुर में अचानक खराब हुए मौसम में सूबे के किसानों को चिंता में डाल दिया। रविवार शाम को मौसम के कड़े रुख से ललितपुर जिले में काफी नुकसान हुआ। जखौरा क्षेत्र के ग्राम नगवास में हाईटेंशन लाइन का तार टूट कर खेतों में जा गिरा जहां खेतों में खड़ी फसल में आग लग गई। इस आगजनी की घटना में कई एकड़ में बोई हुई फसलें जलकर खाक हो गई। वहीं तेज आंधी से विद्युत तारों में हुई पार्किंग से निकली चिंगारी से वहां खड़े सूखे पेड़ में आग लग गई और पास में ही खड़े ट्रैक्टर ट्राली जलकर खाक हो गई रेसिंग मशीन भी जलकर खाक हो गई। वहां बंधी दो जानवर भी इस आगजनी की घटना में मौत के मुंह में समा गए।

ओले गिरने से किसान मायूसी :- इसके साथ ही तहसील महरौनी क्षेत्र के ग्राम कुम्हेडी व खटोरा में बारिश के साथ ओले भी गिरे जहां किसानों के चेहरों पर मायूसी देखी गई। ग्राम खटोरा में शाम 6 बजे किसान खेतों पर काम कर रहे थे। तभी तेज हवाओं के बीच बारिश व ओले गिरने लगे।

मकान भरभरा कर गिर, सात दबे :- पानी व ओले से बचने के लिए लगभग दस किसान खेत पर बने एक मकान के बाहर खड़े हो गए। तभी मकान भरभरा कर गिर गया मलबे में महिला सहित सात लोग दब गए। उन्होंने किसी प्रकार बाहर निकाला गया और उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। घायलों में गब्बर सिंह पुत्र बाबूलाल (35 वर्ष), सोनाबाई पति बाबूलाल (55 वर्ष), रूप सिंह पुत्र रामदास (40 वर्ष), इमारत सिंह पुत्र भूपत सिंह (28 वर्ष), शंकर (45 वर्ष), खिलान पुत्र बाबूलाल (34 वर्ष) बताए गए। आगजनी की घटनाओं के पीड़ित किसानों ने जिला प्रशासन से मदद की गुहार भी लगाई है।