Chaitra Navratri Special: उपवास में खाएंगे ये चीज तो रहेंगे फिट, कोरोना भी नहीं फटकेगा पास

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। कोरोना (coronavirus) की दहशत के बीच आज से नवरात्र (navratri 2021) का व्रत शुरू हो रहा है। नवरात्रि (chaitra navratra vrat) का पर्व हिन्दुओं का प्रथागत एवं महत्वपूर्ण पर्व है। इस पर्व को श्रद्धापूर्वक लोग 9 दिन उपवास (fast) रखकर मनाते है। इस बार कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण लोग चिंतित हैं कि इसको किस प्रकार पूरा किया जाए। नवरात्रि के दौरान खान–पान पर विशेष ध्यान रखना आवश्यक है। नवरात्र के व्रत के सम्बन्ध में वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक डा अनुरूद्ध वर्मा ने लोगों को किस प्रकार व्रत रखे इसके लिए वह बताते हैं कि शरीर में पानी की कमी न हो इसके लिए पर्याप्त पानी‚ नारियल पानी‚ छाछ आदि पीते रहें। शरीर को पर्याप्त उर्जा प्राप्त होती रहे इसलिए मखाना‚ ड्राई फ्रूट‚ अखरोट‚ बादाम‚ पिस्ता‚ मूंगफली का सेवन करें जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होगी।

यह भी पढ़ें: यूपी के इन सिद्ध शक्तिपीठों के बारे में जानते हैं आप, दर्शनमात्र से बन जाते हैं बिगड़े काम

सिंघाडे का आटा कम कैलोरी के साथ देगा पोषक तत्व

खाने में हरी सब्जियों जैसे पालक‚ बंद गोभी‚ करेला‚ ब्रेकली‚ शिमला मिर्च आदि पर्याप्त मात्रा में लेतें रहें। यह आपको फाइबर के साथ साथ पेट की बीमारियों से बचाएंगी तथा शरीर को उर्जा प्रदान करेगी। व्रत में सिंघाड़े के आटे का प्रयोग करें यह कम कैलोरी के साथ शरीर को पोषक तत्व भी प्रदान करता है। पर्याप्त नींद लें इससे शरीर को आराम मिलता है। सब्जियों आदि को सूप लेतें रहें।

यह भी पढ़ें: आज से शुरू हो रहा है हिंदू नववर्ष, 'दानवता' बढ़ने के हैं योग

फलहार बनाने में देसी घी का करें प्रयोग

खाना बनाने में तेल के स्थान पर देसी घी का प्रयोग करें। घी में ट्रांस फैट नहीं होता है। ट्रांस फैट कोलेस्ट्रॉल बढ़ा देता है जबकि घी कोलेस्ट्रांल नहीं बढ़ाता है यह इम्युनिटी बढ़ाता है। इसमें एन्टी ऑक्सीडेंट ‚विटामिन‚ मिनिरल ‚हेल्थी फैट प्रचुर मात्रा में होता है। वहीं मौसमी फल जैसे संतरा‚ अंगूर‚ सेब‚ केला‚ पपीता ‚कच्चा केला आदि का प्रयोग करें। खाने में पनीर‚ दूध‚ दही‚ साबूदाना‚ गुड का सेवन करें। यदि आपको पहले से कोई बीमारी है तो उसकी दवाएं खातें रहें तथा यदि व्रत के दौरान कोई शारीरिक विमारी होती है तो चिकित्सक से सलाह लें। नियमित योग‚ व्यायाम आदि करतें रहें। कुछ चीजें व्रत के दौरान नुकसान कर सकती हैं इसलिए सावधानियों अपनाना चाहिए।