Coronavirus Update: अस्पतालों के कोविड वार्ड फुल, बेड के लिए धक्के खा रहे कोरोना संक्रमित

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
नोएडा. गौतमबुद्ध नगर में कोरोना तेजी से कहर ढहा रहा है। ताजा रिपोर्ट के अनुसार, 13 अप्रैल को छह लोगों की कोरोना वायरस (Coronavirus) से मौत हुई है। जबकि जनवरी से मार्च तक केवल एक कोरोना संक्रमित की मौत हुई थी। वहीं, 229 नए मरीज मिलने से कोरोना के सक्रिय मरीजों का आंकड़ा 1602 पहुंच गया है। देशभर में बढ़ते कोरोना वायरस मामलों के बीच नोएडा शहर के कई अस्पतालों में बेड्स की कमी होने लगी है। अधिकतर अस्पतालों का कहना है कि उनके पास मरीजों के लिए बेड नहीं हैं। वहीं मुख्य चिकित्सा अधिकारी जमीनी हकीकत से पल्ला झाड़ते हुए जिले में उत्तम व्यवस्था का दावा कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- कोरोना पर करना है कंट्रोल, तो नाइट कर्फ्यू की जगह लाकडाउन पर विचार करें यूपी सरकार

दरअसल, उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के रहने वाले फैजान अपने रिश्तेदार को लेकर नोएडा के बड़े अस्पतालों में कोरोना ग्रसित मरीज का इलाज कराने आए। जब वह अस्पताल पहुंचे तो अस्पताल प्रबंधन ने मरीज को भर्ती करने से मना कर दिया। फैजान का कहना है कि अस्पताल प्रबंधन ने हमसे साफ-साफ बोल दिया है कि कोविड वार्ड में कोई बेड खाली नहीं है।

अस्पतालों में बेड की तलाश में धक्के खा रहे मरीज

ऐसा ही कुछ हाल दूसरे मरीज के तीमारदारों का है। जुबेर बताते हैं कि वह अपने मरीज को लेकर पहले फोर्टिस अस्पताल लेकर गए। वहां उन्हें एमरजेंसी में भर्ती कर लिया, लेकिन बाद में वहां से बेड न होने का कारण बताकर अस्पताल से छुट्टी कर दी गई। जुबेर ने आसपास के सभी अस्पतालों से संपर्क किया, लेकिन उन्हें कहीं कोई मदद नहीं मिली। परिवार मरीज के साथ-साथ नोएडा शहर के अस्पतालों में बेड की तलाश में धक्के खाते रहे।

सीएमओ का अपना दावा

जब स्वास्थ्य विभाग के सीएमओ दीपक ओहरी से इस अव्यवस्था पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने दावा किया की जिले में कोविड-19 मरीजों के लिए पूरी व्यवस्था है। किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने दावा किया कि निजी अस्पतालों से संपर्क कर 50 प्रतिशत का कोटा निर्धारित करेंगे। प्रशासन भले ही लाख दावे करे, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। हकीकत क्या है यह तो मरीज और उसके रिश्तेदार खुद महसूस कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- ऐसे तो फट जाएगा कोरोना बम, बैंकों के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की उड़ रही धज्जियां