Panchayat Chunav: पीएम मोदी स्टाइल में वोट मांग रहे प्रत्याशी, कोई दूधिया तो कोई लगाता है चाट का ठेला

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। इस बार पंचायत चुनाव में प्रत्याशियों ने वोट मांगने का ट्रेंड बदल दिया है। इस बार प्रत्याशी पीएम मोदी स्टाइल में वोट मांग रहे हैं। प्रत्याशियों का कहना है कि जब चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री बन सकता है तो दूध बेचने वाला गांव का प्रधान क्यों नहीं बन सकता। इस बार प्रधान पद के चुनाव में भावी प्रत्याशी अपना व्यवसाय बताकर ग्रामीणों के बीच जाकर अपने लिए वोट मांग रहे हैं।

यह भी पढ़ें: UP Panchayat Chunav: एक ही परिवार के चार लोगों का निर्विरोध निर्वाचित होना तय

दरअसल, पंचायत चुनाव में कई ऐसे अनूठे उम्मीदवार हैं जो अपने रोजमर्रा के कामों के साथ साथ चुनाव प्रचार कर रहे हैं। इनमें दूध बेचने वाले, गोलगप्पे का ठेला लगाने वाले, बाइक सर्विस करने वाले जैसे प्रत्याशी शामिल हैं, जो अपने काम के साथ साथ चुनाव प्रचार की भी कमान संभाले हैं और चर्चा का विषय बने हुए हैं। वार्ड नंबर 28 से डॉ अमित त्यागी एडवोकेट निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मैदान में है। वे एडवोकेट भी हैं। वे अपना व्यवसाय बताकर वोट मांग रहे हैं।

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनाव: चुनाव प्रचार के विरोधाभास में भाजपा ने पांच पदाधिकारियों को 6 वर्ष के लिए निकाला

इसी तरह से नगला कबूलपुर के मुनीष सुबह शाम घर घर दूध बेचते हैं और अपनी इसी ग्राम सभा से भावी प्रधान पद के उम्मीदवार हैं, जो दूध बेचते वक्त जब अपना चुनाव प्रचार भी कर रहे हैं। वह इस दौरान यह कहना नहीं भूलते कि जब चाय वाला प्रधानमंत्री हो सकता है तो दूध बेचने वाला गांव का प्रधान क्यों नहीं और यही मेरी आजीविका का साधन है। ऐसे ही बीडीसी का एक भावी उम्मीदवार चाट ठेला तो दूसरा बाइक सर्विस करता है। जो भी इनकी दुकान पर आता है, उनसे ये लोग वोट की मांग करते हैं और अगर बाहर का है, तो उससे सपोर्ट करने की विनती करते हैं। इस तरह ऐसे दर्जन भर से अधिक पंचायत चुनाव में भावी उम्मीदवार हैं जो रोजमर्रा के कामों के साथ साथ चुनाव प्रचार करते हुए मैदान में डटे हैं।