Ram Mandir : ग्राउंड इंप्रूवमेंट में डाले जाएंगे 1.25 लाख घनफिट EFM

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या. राम मंदिर निर्माण को लेकर परिसर में चल रहे ग्राउंड इंप्रूवमेंट कार्य की समीक्षा निर्माण समिति के द्वारा की जा रही है अयोध्या पहुंचे निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्र बैठक के पहले दिन राम जन्मभूमि परिसर का निरीक्षण कर कार्यदाई संस्था के अधिकारियों से फीडबैक मीटिंग में इंप्रूवमेंट कार्य में प्रयोग किए जा रहे इंजीनियरिंग फील्ड मटेरियल पर चर्चा किया गया वही इसकी अंतिम निर्णय को लेकर दूसरे दिन भी चर्चा की जा रही है माना जा रहा है कि उपयोग किए जा रहे सामग्रियों में कई अहम बदलाव भी किए जा सकते हैं। इस मंदिर निर्माण समिति की बैठक मैं निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र के साथ श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय डॉ अनिल मिश्रा अयोध्या राजा विमलेंद्र मोहन मिश्र भी शामिल हुए इस दौरान राम मंदिर निर्माण कार्य कर रही L&T और TEC का अधिकारियों के साथ ग्राउंड इंप्रूवमेंट के कार्यों की समीक्षा किया जा रहा है।

ग्राउंड इंप्रूवमेंट के लिए EFM में होगा माइनर बदलाव

राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चम्पतराय ने बताया कि मंदिर निर्माण में अब तक हुए कार्यों की समीक्षा और अगले 3 महीने में क्या कार्य किया जाना है। वहीं कहा कि और 3 वर्ष में मंदिर निर्माण को लेकर किस प्रकार की बाधाएं आ सकती हैं, इसके साथ 62 एकड़ परिषद के विकास किए जाने की योजना के अनुसार और कितनी भूमि अर्जित की जानी है। इन सभी मुद्दों पर चर्चा किया गया है। अभी जानकारी दी कि किसी बड़े बदलाव नहीं किए जा सकते हैं सिर्फ माइनर बदलाव ही संभव है।

12 टन के रोलर से होगा कॉम्पेक्ट

उन्होंने बताया कि खुदाई किये गए स्थल के फिलिंग ( भराई का कार्य प्रारंभ हो चुका है 1 फुट मोटी लेयर यानी 3 मिलीमीटर ढलाई प्रारंभ की गई है जिस पर 12 टन का रोलर चेक कॉम्पेक्ट किया जाएगा। जिसमे एक सामान्य रोलर दूसरा वाइब्रेटर रोलर का प्रयोग किया जाएगा। वहीं बताया कि इंजीनियरों के मुताबिक ग्राउंड इंप्रूवमेंट के लिए 44 लेयर डाली जाएगी। वन इस दौरान वर्षा ऋतु को ध्यान में रखते हुए कार्य किया जाएगा और परिसर में जो 50 से 55 फुट तक का मलबा हटाया जाए इसे सितंबर माह तक फिलिंग का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। नहीं बताया कि एक गणित के अनुसार 1 लाख 25000 घन मीटर की फिलिंग होगा।

जल्द अयोध्या पहुंचेंगा मिर्जापुर का पत्थर

वही मंदिर निर्माण मंदिर के साथ बेस बनाए जाने को लेकर जल्द ही पत्थरों को लगाने का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा। तैयार किए जा रहे भूमि से फर्श को 16.5 फुट ऊंचा उठाना है. जिसका कार्य मिर्जापुर के पत्थरों से किया जाएगा लेकिन भराई का कार्य पूरा होते ही सितंबर माह आ जाएगा। तब तक मिर्जापुर के पत्थरों को अयोध्या लाकर उसे लॉकिंग सिस्टम तैयार करने का कार्य किया जाएगा। इसके बाद उसकी फिटिंग शुरू कर दी जाएगी।