फ्रांस की ये कंपनी राजस्थान में 1,100 करोड़ रुपये का करेगी निवेश, 300 से अधिक लोगों को मिलेगा रोजगार

सैंट गोबेन निवेश

सैंट गोबेन निवेश

जयपुर। कोरोना महामारी के इस दौर में कई विदेशी कंपनियों ने इस मुश्किल दौर में देश का साथ दिया है। अब ग्लास निर्माता कंपनी सैंट गोबेन (Saint Gobain) भी इस मुश्किल घड़ी में आगे आई है। सैंट गोबेन ने राजस्थान के भिवाड़ी और अलवर में 1,100 करोड़ रुपये के निवेश का प्रस्ताव किया है जिससे राज्य में 300 से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलने की उम्मीद है। सैंट गोबेन के अधिकारियों की एक बैठक यहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के साथ हुई। इसमें सैंट गोबेन ने खास तरह के शीशे की एशियाई मांग के निर्माण के लिए राजस्थान में दूसरे चरण के विस्तार के लिए निवेश की इच्छा ज़ाहिर की।

सीएम बोले- सैंट गोबेन को सरकार सर्वोत्तम वातावरण प्रदान करेगी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सैंट गोबेन विश्व में ग्लास के क्षेत्र में अपने आप में एक बड़ा नाम है, उनके द्वारा राजस्थान में विस्तार हेतु नये निवेश की इच्छा जाहिर करने से राज्य में निवेश प्रोत्साहन परिदृश्य का इससे बेहतर प्रचार नहीं हो सकता। उन्होंने कहा की निवेश के लिए सैंट गोबेन को सरकार सर्वोत्तम वातावरण प्रदान करेगी। साथ ही उन्होंने कंपनी के भविष्य के लिए समर्थन का आश्वासन भी दिया। वर्ष 2010 से अपनी निवेश घोषणा के बाद से सैंट गोबेन पहले ही 1200 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश कर चुकी है और 1100 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार भी दिया है।

ग्लास के क्षेत्र में एशिया का सबसे बड़ा क्षेत्र बनेगा राजस्थान

कंपनी अब विस्तार योजना के तहत राज्य में 1100 करोड़ रुपये के नये निवेश और 300 से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देगी। इस विस्तार के साथ, राजस्थान ग्लास फ्लोट लाइन क्षेत्र में एशिया का सबसे बड़ा क्षेत्र बन जायेगा। भारत में सैंट-गोबेन ग्रुप के चेयरमैन बी संथानम ने कहा कि भारत में तेजी से विकास के लिए कंपनी भिवाड़ी स्थित सैंट-गोबेन वर्ल्ड ग्लास कॉम्प्लेक्स, में एक नए फ्लोट ग्लास प्लांट के लिये निवेश करेगी।