केंद्र सरकार के विभिन्न विभागों में मजदूरी करने वाले श्रमिकों के लिए किया गया बड़ा ऐलान, 1.5 करोड़ श्रमिकों को होगा सीधा फायदा

केंद्र सरकार ने श्रमिकों के लिए एक बड़ा फैसला लिया है. इस फैसले से केन्द्र सरकार के विभिन्न विभागों और PSU के तहत काम करने वाले करीब 1.5 करोड़ श्रमिकों को फायदा होगा. केंद्रीय श्रम मंत्रालय और रोजगार मंत्रालय ने केन्द्र सरकार के विभिन्न विभागों और PSU के तहत काम करने वाले श्रमिकों के वैरिएबल महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी का ऐलान किया है. इससे उनकी न्यूनतम मजदूरी में अब इजाफा हो जाएगा. पहले उन्हें महंगाई भत्ता 105 रूपए प्रतिमाह मिलता था, जिसे अब बढ़ाकर 210 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है. जिससे लगभग 1.5 करोड़ श्रमिकों को दैनिक मजदूरी में सीधा लाभ होगा.

मंत्रालय ने वैरिएबल महंगाई भत्ते में ये बढ़ोतरी 1 अप्रैल 2021 से लागू की है. इस संबंध में मंत्रालय ने शुक्रवार 21 मई को आदेश भी जारी किया गया. केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘केंद्र सरकार, रेलवे प्रशासन, खानों, तेल क्षेत्रों, प्रमुख बंदरगाहों या केंद्र सरकार द्वारा स्थापित किसी भी निगम के तहत प्रतिष्ठानों में विभिन्न अनुसूचित रोजगार में लगे श्रमिकों के लिए वैरिएबल महंगाई भत्ते को बढ़ा दिया गया है. लगभग 1.5करोड़ श्रमिकों को मिलेगा इस भत्ते का सीधा लाभ.

श्रमिकों के वैरिएबल महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी औद्योगिक श्रमिकों के खुदरा मूल्य सूचकांक (CPI-IW) के औसत पर की गई है. इसके लिए जुलाई 2020 से दिसंबर 2020 के बीच CPI-IW आंकड़ों को आधार बनाया गया. इन श्रमिकों के लिए न्यूनतम मजदूरी अधिनियम को लागू कराने की जिम्मेदारी केंद्रीय मुख्य श्रम आयुक्त को दी गई है. उनके अंतर्गत काम करने वाले निरिक्षण अधिकारी इसे देश भर में लागू करवाएंगे.