कोरोना का कहर थमने के बाद महाराष्ट्र सरकार आने वाले 1 जून से लॉकडाउन में लगे प्रतिबंधो को कर सकती है कम

पूरा देश कोरोना महामारी के कहर से भयग्रस्त था. कोरोना महामारी के कारण जीवन और जीविका दोनों ही बहुत अधिक प्रभावित हुए हैं. ऐसे तो कोरोना से देश का हर राज्य इस संकट का सामना कर रहा था. लेकिन महाराष्ट्र राज्य सबसे अधिक कोरोना महामारी के कहर को झेला है. कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआत देश की आर्थिक राजधानी कही जाने वाली मुंबई से शुरू हुई. फिर धीरे – धीरे इसमें महाराष्ट्र के कई बड़े शहरों को अपने चपेट में ले लिया. कोरोना के इस संकट के समय में एक दौर ऐसा भी आया कि देश में रोजाना आने वाले कुल नए केसों में महाराष्ट्र की हिस्सेदारी करीब आधी फीसदी रहने लगी थी. लेकिन बड़ी बात ये है कि अब यहाँ कोरोना के संक्रमण के नए मामले में अधिक कमी देखने को मिल रही है.

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले थमते हुए देख कर ऐसा माना जा रहा है कि कोविड के प्रतिबंधों में कुछ कमी की जा सकती है. आपको बता दें कि जानकारी के अनुसार कोरोना के संक्रमण में कमी को देखते हुए महाराष्ट्र राज्य में लॉकडाउन को हटाने के बारे में फैसला लिया जा सकता है. लेकिन लॉकडाउन को तुरंत एकदम से खत्म नहीं किया जायेगा. कुछ प्रतिबन्ध लॉकडाउन लगने के बाद भी पूर्व तरह से लगे रहेंगें.

बता दें कि महाराष्ट्र सरकार 1 जून से लॉकडाउन में धीरे – धीरे कमी करने के मुद्दे पर चर्चा कर रही है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इस बात पर सप्ताह के अंतिम दिनों में फैसला ले सकते हैं. जानकारी के अनुसार पहले चरण में राज्य में जरुरी सामान की दुकानों से प्रतिबन्ध हटकर उन्हें फिर से खोलने का फैसला किया जा सकता है. इसी के साथ सरकारी कार्यालयों में कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने की अनुमति मिल सकती है.