वैक्सीन की किल्लत को दूर करने के लिए केंद्र सरकार उठाने जा रही ये बड़ा कदम

देश में हर दिन कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे है जिस वजह से स्थिति दिन पर दिन ख़राब होती जा रही है वही मरने वालो का आंकड़ा भी बढ़ता ही जा रहा है जिस वजह से अब चिंता बढ़ती जा रही है और हालातों पर काबू पाना भी मुश्किल हो गया है. वही वैक्सीन को लेकर भी जमकर राजनीति की जा रही है तो कही पर वैक्सीन की चोरी की खबरे सामने आ रही है. जिस वजह से कई सवाल उठ रहे है. जिसमें सबसे बड़ा सवाल वैक्सीन की किल्लत को लेकर सामने आ रहा है.

इसी वजह से अब केंद्र सरकार एक बड़ा कदम उठा सकती है. जानकारी के लिए बता दें कि कोरोना वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार अब अन्य कम्पनियों को कोवैक्सीन बनाने की अनुमति देने की तैयारी में है. ताकि वैक्सीन की किल्लत को कम किया जा सके. पता हो कि देश में 18 से अधिक उम्र वाले लोगो को भी वैक्सीन लगायी जा रही ई लेकिन फ़िलहाल के लिए इस अभियान की गति धीमी हो गयी है वैक्सीन की किल्लत होने की वजह से और इसी कारण सरकार अब ये बड़ा कदम उठाने जा रही है. ताकि वैक्सीन कि किल्लत को कम किया जा सके.

जानकारी के लिए बता दें कि केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि “कोवैक्सीन भारत में बनी हुई वैक्सीन है. इसलिए इसके निर्माण में एपीआई की समस्या नहीं है. इस अनुसंधान में सहयोगी कंपनियां जरूरत के अनुसार उसकी आपूर्ति करने में सक्षम हैं.” साथ ही उन्होंने कहा कि यदि किसी दवा या टीका निर्माता कंपनी के पास इसके लिए आवश्यक ढांचा और संसाधन हैं तो वह हमारे पास आएं. हम उन्हें अनुमति प्रदान करेंगे. जाहिर है कि वैक्सीन की कमी को पूरा करना अबी एक बड़ी चुनौती बना हुआ है. जब देश में हजारों की संख्या में आये दिन लोग अपनी जान गवा रहे है.