केंद्र सरकार ने कही ऑडिट की बात तो अब दिल्ली सरकार बोली ‘हमारे पास जरूरत से ज्यादा ऑक्सीजन, लेकर किसी और राज्य को दे दो’

अभी ज्यादा दिन नहीं हुए जब दिल्ली और केंद्र सरकार के बीच ऑक्सीजन को लेकर छीछालेदर मचा हुआ था. मामला कोर्ट तक पहुंचा. दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली के अस्पतालों की बदइंतजामी का सारा ठीकरा केंद्र सरकार के मत्थे फोड़ रहे थे. यहाँ तक कि पीएम के साथ मीटिंग में हो रही बातें भी लीक कर दी. दिल्ली सरकार लगातार ये आरोप लगाती रही कि केंद्र उसे ऑक्सीजन नहीं दे रहा. लेकिन अब अचानक से दिल्ली सरकार ने केंद्र को पत्र लिखकर कहा है कि उसके पास अतिरिक्त ऑक्सिजन है और इसे दूसरे राज्यों को भी दिया जा सकता है. दिल्ली सरकार का ये पत्र ऐसे वक़्त में सामने आया है जब केंद्र सरकार दिल्ली में हो रही लगातार ऑक्सीजन की कमी पर ऑडिट कराने की बात कह रही है. अब दिल्ली सरकार के इस चिट्ठी को लेकर भाजपा ने केजरीवाल पर हमला बोला है.

भाजपा ने दिल्ली सरकार पर बरसते हुए कहा है कि ऑडिट के डर से दिल्ली सरकार अब कह रही है कि उसके पास सरप्लस ऑक्सीजन है. दिल्ली बीजेपी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है, ‘ऑक्सिजन ऑडिट की बात आई तो अब बोल रहे हैं कि ऑक्सिजन पर्याप्त मात्रा में है. केंद्र सरकार लगातार दिल्ली को ऑक्सिजन की सप्लाई देती रही, और AAP रोज अपनी नाकामी छुपाने के लिए झूठ बोलते रहे. AAP का झूठ अब जनता के सामने आ चुका है.’

इससे पहले दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘दिल्ली में 24 घंटों में कोविड-19 के 10,400 नए मामले आए और संक्रमण दर 14 प्रतिशत है.जब संक्रमण के मामले बढ़ रहे थे तो राष्ट्रीय राजधानी को 700 मीट्रिक टन की ऑक्सिजन की आवश्यकता थी, लेकिन अब मामलों में गिरावट आने लग गई है जिससे ऑक्सिजन आवश्यकता घटकर 582 मीट्रिक टन रह गई है. हमने अतिरिक्त ऑक्सिजन दूसरे राज्यों को देने के लिए केंद्र को पत्र लिखा है. हमारी एक जिम्मेदार सरकार है.’