कोरोना के चलते राजनीति करने चली थी ममता दीदी तो निर्मला सीतारमण ने तथ्यों के साथ कर दी बोलती बंद

देश इस समय कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है. किसी ने इस बात की उम्मीद भी नहीं की होगी कि देश में कोरोना की दूसरी लहर भी आएगी और जमकर तबाही मचा रही है. पिछले कई दिनों से देशभर में 4 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं और हजारों लोग अपनी जान दे रहे हैं. कोरोना के कहर को काबू में करने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकारें एक के बाद एक बड़ा कदम उठा रही हैं.

जानकारी के लिए बता दें एक तरफ केंद्र सरकार कोरोना को काबू में करने के लिए पूरी कोशिश कर रही है वहीं कई राज्यों की सरकार इस पूरे मामले पर राजनीति से अपने आप को रोक नहीं पा रहे हैं. एक तरफ केजरीवाल सरकार है जो ऑक्सीजन की कमी को लेकर पिछले काफी समय से रोना रो रही है. तो वहीँ झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने पीएम मोदी की बातों को मन की बातें कह दिया था. जिसके बाद उनके और जगन मोहन रेड्डी ने बीच ट्विटर वॉर छिड़ गया था. अब ममता बनर्जी भी इस मसले पर राजनीती करने से पीछे नहीं रही.

ममता बनर्जी भी बंगाल की तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही केंद्र सरकार पर लगातार निशाना साध रही हैं. पहले उन्होंने कहा था कि उनके हिस्से का ऑक्सीजन केंद्र सरकार अन्य राज्यों को दे रही है. फिर ममता बनर्जी ने बिना तथ्यों को जानें पीएम मोदी को पत्र लिखा उसमें मांग करते हुए लिखा कि सरकार दवाईयों और मेडिकल उपकरणों पर GST से लोगों को छूट दे. अब उनकी इस मांग के बाद केंद्रीय मंत्री ममता बनर्जी पर हावी हो गये हैं, इसके पीछे की वजह ये है कि केंद्र सरकार पहले ही इन चीजों से GST हटा चुकी थी.

गौरतलब है कि ममता बनर्जी के इस पत्र के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया. वित्त मंत्री ने लिखा कि पहले तथ्यों को ठीक से जाँच लें ये सारी व्यवस्थाएं पहले से ही हो चुकी हैं. उन्होंने बताया कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उपयोग की जाने वाले दवाईयों और मेडिकल उपकरणों पर GST से छूट की घोषणा पहले से ही की जा चुकी है.

साथ ही उन्होंने ऐसे सामानों की पूरी सूची भी जारी कर दी जिसपर GST में छूट दे दी गयी है. निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि इन चीजों से कस्टम ड्यूटी को भी पहले ही माफ़ किया जा चुका है. निर्मला सीतारमण ने इस तरह ममता बनर्जी की बोलती बंद कर दी.