ट्विटर और सरकार के बीच छिड़ा घमासान, कंपनी ने कोर्ट में कही ये बात

आज के दौर में सोशल साइट्स तमाम लोगो की ज़िन्दगी का एक अहम हिस्सा बन गयी है. फिर चाहे वो ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम या फिर यू ट्यूब जैसी तमाम साइट्स हो. लोगो का आधा समय इन्ही साइट्स पर ही जाता है. हालाँकि कई बार देखने को मिला है जब इन साइट्स का गलत इस्तेमाल किया गया है और इसी वजह से सोशल साइट्स पर प्रतिबंद लगाये जाने की खबरे भी सामने आती रही है.

वही फिर से ट्विटर और सरकार के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है और अब दोनों ही आमने सामने आ गए है. बता दें कि जहाँ एक तरफ हाईकोर्ट में ट्विटर ने कहा कि हमने केंद्र के कानूनों को माना है. वहीं सरकार का कहना है कि ऐसा नहीं हुआ. दरअसल कोर्ट ने ट्विटर को इस मामले पर अपना पक्ष रखने को कहा जिस पर ट्विटर के बड़े अधिकारियों ने कोर्ट को बताया कि उसने आईटी नियमों को 2021 में लागू कर दिया है. 

जिस पर केंद्र ने कहा कि नहीं ऐसा नहीं है और ट्विटर ने नए नियम लागू नहीं किए हैं. जिस पर कोर्ट ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यदि डिजिटल मीडिया के लिए आईटी नियमों पर रोक नहीं लगाई गई है तो ट्विटर को इनका पालन करना होगा. जाहिर है की बीते कुछ समय से सोशल मीडिया को लेकर नियमों का मुद्दा गरमाया हुआ है और सोशल मीडिया कंपनी और सरकार के बीच तनाव बना ही हुआ है.