पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनावों के आ रहे नतीजे, कांग्रेस और लेफ्ट का सूफड़ा साफ़

देश के 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के आज नतीजे घोषित होने थे, जिनकी मतगणना शुरू भी हो गयी थी. हर किसी की निगाहें बंगाल में टिकी हुई थी कि आखिर बंगाल में किसकी जीत होती है? सुबह से ही लोग आंकड़ों पर नजर बनाये हुए थे क्योंकि बंगाल में भाजपा ने पूरी दम लगा दी थी वहीँ TMC में भी एक के बाद एक बड़े दांव खेले थे. अब बंगाल के नतीजे आ रहे हैं.

जानकारी के लिए बता दें देश के अधिकतर राज्यों में हार का सामना कर चुकी कांग्रेस को बंगाल में भी बड़ा झटका लगा है. बंगाल की लड़ाई TMC और भाजपा में ही देखने को मिल रही है. वहीँ माकपा सहिंत अन्य वामपंथी दल के साथ कांग्रेस की हालत खस्ता. ये सभी दल बंगाल में काफी पीछे चल रहे हैं. बंगाल में इन दलों का सूफड़ा साफ़ होता नजर आ रहा है. अब तक के रुझानों के अनुसार ममता बनर्जी को पूर्ण बहुमत मिलते दिखाई दे रहा है. TMC 200 से ज्यादा सीटों पर बढ़त बना चुकी है.वहीँ बीजेपी 75 से ज्यादा सीटों पर बढ़त बनाये हुए है.

सबसे बड़ी बात ये है कि वाम दलों के सबसे चर्चित उम्मीदवार और JNU छात्र संघ की पूर्व अध्यक्ष आइशी घोष भी श्चिम बर्दवान जिले के जमुरिया सीट से चुनाव हार चुकी हैं. मालदा और मुर्शिदाबाद जिला जिसे एक दशक पहले तक कांग्रेस का गढ़ माना जाता था वहां भी सभी सीटों पर TMC आगे चल रही है. बंगाल की दूसरी सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी मालदा में हैं जहाँ कांग्रेस बुरी तरह हार रही है. ये आंकड़े अब तक के रुझानों के अनुसार हैं बाकी फाइनल नतीजे आना अभी बाकी है.

गौरतलब है कि सुजापुर जहाँ की 90 प्रतिशत आबादी मुस्लिम ही है वहां से खान चौधरी के भतीजे ईशा खान चौधरी TMC के अब्दुल गनी से चुनाव हार गए हैं. वहीँ मुर्शिदाबाद में तीन बार के कांग्रेस विधायक मनोज चक्रवर्ती बरहमपुर सीट से पीछे चल रहे हैं. इन्होंने टीएमसी के नरगोपाल मुखर्जी के सामने चुनाव लड़ा था. वहीँ हुगली जिले में दिग्गज कांग्रेस नेता और निवर्तमान विधानसभा में विपक्ष के नेता अब्दुल मन्नान चंपादानी में पीछे थे.