बीजेपी नेता रमाकांत पाठक ने दुनिया को कहा अलविदा, कोरोना से थे संक्रमित

देश में कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है और इसी वजह से स्थिति काफी नाजुक हो गयी है. वही दूसरी तरफ हालातों को काबू में लाने के लिए सरकार लगातार सख्ती भी बढ़ाती जा रही है. वही दूसरी तरफ कोरोना के चलते कई नेताओं का निधन भी हो चुका है और इस कड़ी में अब एक आर नेता का नाम शामिल हो गया है.

जानकारी के लिए बता दें कि बीजेपी के बड़े नेता रमाकांत पाठक का निधन हो गया है. बता दें कि वे कोरोना से संक्रमित थे और 10 दिनों पहले ही उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहाँ पर बीती रात को उनका निधन हो गया.  जिसके बाद से ही राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर छा गयी है.मालूम हो कि जब सिवान में आरजेडी के दिवंगत नेता मोहम्मद शहाबुदीन का वर्चस्व हुआ करता था. तब किसी भी पार्टी का झण्डा सिवान में नहीं लगाया जाता था. लेकिन उस समय केवल रमाकांत पाठक अपने घर में बीजेपी का झंडा लगाते थे और तभी से ही उन्हें उस क्षेत्र में एक मजबूत नेता के तौर पर देखा जाता था.

इसके अलावा बता दें कि स्थानीय लोगो का कहना है कि रमाकांत पाठक के द्वारा बीजेपी का झन्डा लगाये जाने की बात से नाराज होकर 17 मार्च, 2002 की शाम 7:30 बजे पूर्व विधायक आशा पाठक के बेटे संतोष पाठक और नौकर अनिल यादव की पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन ने षड्यंत्र रच कर ह’त्या कराई थी. हालाँकि अब रमाकांत पाठक ने दुनिया को अलविदा कह दिया है. जिसके बाद अब उनके परिवार पर भारी दुखो का पहाड़ टूट गया है.