नंदीग्राम के निर्वाचन अधिकारी को चुनाव आयोग के आदेश के बाद दी गयी सुरक्षा, जानिए उन्होंने क्या कहा था

पश्चिम बंगाल के साथ पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित हो चुके हैं. बंगाल में ममता बनर्जी ने पूर्ण बहुमत से साथ वापसी की है. वो तीसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगी लेकिन वो नंदीग्राम में अपनी हार नही बचा पाई. नंदीग्राम में ममता बनर्जी और शुभेंदु अधिकारी के बीच कड़ा मुकाबला हुआ था. उन्होंने ममता बनर्जी को 1956 वोटों को अंतर से मात दी.

जानकारी के लिए बता दें नंदीग्राम में ममता बनर्जी को मिली हार के बाद TMC नेताओं ने आरोप लगाना शुरू कर दिया और दोबारा से काउंटिंग करने की मांग की थी. वहीँ ममता बनर्जी ने कहा था कि वो कोर्ट जायेंगी और जो गड़बड़ की गयी है उसका खुलासा करेंगी. नंदीग्राम सीट से शुभेंदु अधिकारी के जीतने के बाद TMC कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया था. राज्य में अलग अलग जगह से तरह तरह की खबरें आने लगी.

राज्य में TMC कार्यकर्ताओं का तांडव देख नंदीग्राम के निर्वाचन अधिकारी ने अपनी जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा की मांग की थी. जिसके बाद चुनाव आयोग ने भी दोबारा से काउंटिंग कराने की मांग को खारिज किया और निर्वाचन अधिकारी RO को सुरक्षा मुहैया करवाने के आदेश दिए. चुनाव आयोग के आदेश के बाद अब पश्चिम बंगाल सरकार ने निर्वाचन आयोग को बताया है कि निर्वाचन अधिकारी को सुरक्षा दे दी गयी है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बताया गया है कि निर्वाचन आयोग के निर्देश के बाद नंदीग्राम के RO को व्यक्तिगत रूप से और घर पर भी सुरक्षा मुहैया करवाई गयी है. बताया जा रहा है कि वो अपने कर्तव्य का निर्वहन करने के दौरान गहरे दवाब में थे. चुनाव आयोग ने बंगाल सरकार को पत्र लिखकर नंदीग्राम के निर्वाचन अधिकारी को नियमित आधार पर नजर रखने के लिए सभी उपयुक्त कदम उठाने को कहा था. अब उन्हें कड़ी सुरक्षा दे दी गयी है ताकि किसी तरह की घटना उनके साथ न हो.