रेलवे पर भी कहर बनकर टूट रहा है कोरोना, अब तक जा चुकी है इतने लोगों की जान

देश इस समय कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है. किसी ने इस बात की उम्मीद भी नहीं की होगी कि देश में कोरोना की दूसरी लहर भी आएगी और जमकर तबाही मचा रही है. पिछले कई दिनों से देशभर में 3 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं और हजारों लोग अपनी जान दे रहे हैं. कोरोना के कहर को काबू में करने के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकारें एक के बाद एक बड़ा कदम उठा रही हैं. यूपी में मरीजों की संख्या में गिरावट आ रही है. इसी बीच रेलवे ने भी एक रिपोर्ट जारी की है.

जानकारी के लिए बता दें कोरोना का क़हर रेलवे पर जमकर बरपा है. कोरोना काल में भारतीय रेलवे ने पिछले साल भी कई बड़े कीर्तिमान स्थापित किए थे वहीं इस साल भी रेलवे ने देशभर में ऑक्सीजन की पूर्ति करने के लिए शानदार काम किया है लेकिन रेलवे के हज़ारों कर्मचारियों ने कोरोना से जान दे दी है.

देश में संक्रमण की शुरुआत से अब तक रेलवे के तक़रीबन दो हज़ार कर्मचारियों की जान कोरोना से जान जा चुकी है. रेलवे बोर्ड के चैयरमेन सुनीत शर्मा ने बताया है कि पिछले साल से जबसे देश में कोरोना ने दस्तक दी है तब से अब तक रेलवे के 1952 कर्मचारियों की मौत हो चुकी है.

ग़ौरतलब है कि सुनीत शर्मा ने सोमवार को प्रेस कोंफ़्रेंस करते हुए बताया कि ”रेलवे किसी अन्य राज्य या केंद्र शासित प्रदेश से अलग नहीं है. हम भी कोरोना की वजह से प्रभावित हुए हैं. हम ट्रांसपोर्ट के बिजनेस में हैं. हमें एक जगह से दूसरी जगह तक लोग या फिर माल ले जाना पड़ता है. तकरीबन हजार मामले रोजान सामने आ रहे हैं. हमारे पास अपने अस्पताल हैं. हमारे पास काफी बेड्स भी हैं और हमारे पास अपना ऑक्सीजन प्लांट है. हम अपने स्टाफ की केयर कर रहे हैं.” उन्होंने आगे जानकारी दी क़ि अभी भी उनके पास स्टाफ़ और उनके परिवार से चार हज़ार बेड भरे हुए हैं.