ममता बनर्जी के लिए बंगाल में खतरे की घंटी बज चुकी है

अभी फ़िलहाल पश्चिम बंगाल में जिस तरह की स्थिति बनी है वो हर किसी के लिए चिंता वाली बात है और कही न कही लोग इसको देख व समझ भी रहे है. खैर जो भी है अब तक जो चुनावी रूझान सामने आये है और सीट्स कन्फर्म होते जा रही है उसमे बीजेपी काफी पिछड़ चुकी है और ममता बनर्जी आगे निकलते हुए नजर आ रही है, लगभग लगभग ये तय हो चुका है कि सरकार ममता की ही बनेगी लेकिन फिर भी वो अभी एक टेंशन से उबर नही पा रही है.

भाजपा ने पहली बार छुआ 85 के करीब का आंकड़ा, ममता को अपनी सीट भी बचाने में हालत हुई खराब
अभी पश्चिम बंगाल में चाहे ममता बनर्जी सरकार बनाने के करीब आ चुकी है और वो अब फिर से पांच साल के लिए राज करने की तैयारी में है लेकिन एक बात फैक्ट तौर पर दिखाई देती है कि ममता अब पहले की तरह अधिक लोकप्रिय नही रही है. आज भाजपा लगभग 85 से 100 तक के आस पास के आंकड़े तक पहली बार पहुंची है जबकि पहले बीजेपी सिर्फ 3 सीट्स ही मुश्किल से हासिल कर पाती थी वही टीएमसी का तो वोट प्रतिशत भी घट चुका है.

सिर्फ बात यही पर ही नही रूकती है, ममता बनर्जी के लिए अपनी सीट को बचा पाना भी मुश्किल हो गया था क्योंकि कई राउंड की वोटिंग में शुभेंदु अधिकारी उनसे काफी अधिक आगे निकल गये थे और ये अपने आप में ममता बनर्जी के लिए बेज्जती जैसा ही था. खैर जो भी है और जो कुछ भी देखने को मिला है उसके बाद में बीजेपी एक बड़ी और ताकतवर पार्टी के रूप में तो बंगाल में उभर ही चुकी है जो आगे की लिए खुदको और अधिक मजबूत करेगी.

अभी के लिए बीजेपी भी अपनी कई सीट्स पर जीत को सेलिब्रेट कर रही है वही लेफ्ट और कांग्रेस के हाथ में तो लगभग कुछ भी नही आया है और एक आध सीट वो किसी तरह से ला पा रही है तो उसके पीछे की वजह है वहां पर बीजेपी या टीएमसी ने कुछ ख़ास ध्यान नही दिया.