पीएम को आधे घंटे तक इंतज़ार कराने पर ममता बनर्जी ने तोड़ी चुप्पी, कहा ‘मैंने उन्हें इंतज़ार नहीं कराया बल्कि उन्होंने…’

एक बार फिर ममता बनर्जी और केंद्र सरकार में ठन गई है. यास तूफ़ान के मुद्दे पर हुई समीक्षा बैठक में पीएम मोदी को 30 मिनट इंतज़ार कराने और अपने अड़ियल रवैये की वजह से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आलोचना का शिकार हो रही हैं. खुद को घिरता देख अब ममता बनर्जी ने सफाई दी है. उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विस्तार से बताया पीएम से मुलाकात के पहले क्या हुआ? ममता ने इसका भी जवाब दिया कि क्यों उन्होंने पीएम मोदी को रिसीव नहीं किया?

पीएम को एयरपोर्ट पर रिसीव न करने पर ममता बनाजी ने कहा इसकी कोई जरूरत नहीं है कि हर बार सीएम, पीएम को रिसीव करे. कभी-कभी कुछ राजनीतिक तमाशे भी होते हैं. ममता बनर्जी ने उल्टा आरोप लगाते हुए कहा, ‘मुझे ही 20 मिनट इंतज़ार करना पड़ा. जब हम सागर पहुंचे तो हमें सूचना मिली कि हमें 20 मिनट इंतजार करना होगा क्योंकि पीएम मोदी का हेलीकॉप्टर उतरना बाकी था. हालाँकि उन्हें हमारा शेड्यूल पता था. इसके बावजूद उन्होंने हमें इंतज़ार कराया. इससे पहले हमारे विमान को लैंड कराने के लिए भी 15 मिनट इंतज़ार कराया गया. लेकिन इससे हमें कोई मसला नहीं क्योंकि ये पीएम की सुरक्षा का मामला था. पीएम के सुरक्षाकर्मियों से कहा कि पीएम को देखने के लिए एक मिनट की अनुमति दे दें लेकिन उन्होंने एक घंटे इंतजार करने को कहा.’

मीटिंग में खाली कुर्सी वाली वायरल तस्वीरों पर टिप्पणी करते हुए ममता बनर्जी ने कहा उन्होंने कुछ खाली कुर्सी दिखाईं, यह मीटिंग के पहले का दृश्य हो सकता है या फिर उसके बाद का हो सकता है. उस समय वहां बैठने का कोई मतलब नहीं था.