CBSC ने कोरोना को देखते हुए 10वीं के छात्रों के लिए उठाया बड़ा कदम…

देश में कोरोना का कहर बड़ी ही तेजी से जारी है. इस कोरोना नामक महामारी ने हम सबको पूरी तरह से तोड़ कर रख दिया है. कोरोना महामारी की वजह से हो रही नुकशान की बात करें तो इससे सबसे अधिक शिक्षा का क्षेत्र प्रभावित हो रहा है. विद्यालय बंद होने के कारण छोटे बच्चों की पढ़ाई तो एकदम से खराब ही हो गई है. बड़े बच्चे तो ऑनलाइन के माध्यम से अपनी पढ़ाई पूरी कर लें रहें हैं लेकिन छोटे बच्चो का भविष्य अंधकारमय दिखाई दे रहा है. इस कोरोना महामारी के वजह से होने वाली परीक्षाओं पर भी बहुत ही गहरा असर पड़ा है. आपको बता दें कि कोरोना के इस भयावह कहर को देखते हुए ही सीबीएसई ने 10 वीं बोर्ड कक्षा के छात्रों लिए एक बड़ा कदम उठाया है. कोरोना के कारण CBSC ने 10 बोर्ड की 2021 की परीक्षाएं रद्द कर दीं हैं.

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यालयों के लिए एक लिंक एक्टिवेट कर दी है. जिसमें विद्यालयों को छात्रों द्वारा दी गई उन परीक्षाओं के आधार पर उनके नंबर अपलोड करने हैं. जो उन्होंने 10 वीं के पढ़ाई के समय दी थी. CBSC बोर्ड ने विद्यालयों को एक विशेष मानदंड के आधार पर कक्षा 10 वीं के छात्रों का आकलन करने के लिए कहा है. इन विशेष मानदंडो के अनुसार छात्रों को प्रत्येक विषय के लिए आंतरिक मुल्यांकन के आधार पर 20 अंक दिए जायेंगें बाकि और जो 80 अंक हैं वो केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा तैयार किये गये नए फॉर्मूला के आधार पर दिए जायेंगे.

आपको बता दें कि बाकी 80 अंक है वो पुरे वर्ष में विद्यायालय द्वारा आयोजित किए गये विभिन्न टेस्ट और परीक्षाओं को आधार बनाया जायेगा. केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पॉलिसी के अनुसार प्री बोर्ड परीक्षाओं में छात्रों को मिले अंको का सबसे अधिक महत्त्व दिया जायेगा. इसके बाद अर्धवार्षिक परीक्षाओं को 30 अंकों का और टेस्ट को 10 अकों का वेटेज दिया जायेगा. CBSC ने सभी विद्यालयों को एक रिजल्ट कमेटी बनाने के लिए भी आदेश दिया है. इसमें नतीजों को अंतिम रूप दिया जायेगा. इस कमेटी में प्रधानाचार्य के अलावा 7 और अध्यापक भी होने चाहिए. CBSC बोर्ड ने ये भी कहा है कि विद्यालयों को इस प्रिक्रिया को पूरा करके 5 जून तक CBSC को नतीजे जमा करने होंगें क्योकि CBSC ने पहले ही 20 जून को परिणाम घोषित करने का ऐलान कर दिया है.