CM केजरीवाल के ‘सिंगापुर स्ट्रेन’ वाले बयान पर गरमायी सियासत, विदेश मंत्री ने दी ये नसीहत

देश में कोरोना का कहर अभी भी बना ही हुआ है और इसी वजह से स्थिति अभी तक ठीक नहीं हो पायी है. इसी वजह से देश के कई राज्यों में लॉक डाउन लगाया गया है ताकि कोरोना की चेन को तोड़ने में मदद मिल सके. वही दूसरी तरफ CM अरविंद केजरीवाल के सिंगापुर स्ट्रेन पर विवाद छिड़ गया है. दरअसल कल CM केजरीवाल ने केंद्र से अपील करते हुए कहा था कि सिंगापुर में आया कोरोना का नया रूप बच्चों के लिए बेहद ख़तरनाक हो सकता है और भारत में ये तीसरी लहर के रूप में आ सकता है. इसीलिए केंद्र सरकार से मेरी अपील है कि सिंगापुर के साथ हवाई सेवाओं को तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाना चाहिए.

जिस पर अब विवाद छिड़ गया है. जहाँ एक तरफ इस पर भारत के उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने जवाब दिया साथ ही इस पर सिंगापुर ने भी कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की. इतना ही नहीं सिंगापुर की नाराजगी के बाद अब भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने भी दिल्ली सीएम अरविन्द केजरीवाल को नसीहत दी है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि ‘सिंगापुर और भारत दोनों कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं. इस लड़ाई में सिंगापुर ने भारत की जो मदद की है, उसके लिए उनका धन्यवाद. सिंगापुर का सैन्य विमान से मदद भेजना दिखाता है कि हमारे रिश्ते कितने मजबूत हैं. मैं साफ कर देना चाहता हूं कि दिल्ली के मुख्यमंत्री का बयान भारत का बयान नहीं है.’

बता दें कि CM केजरीवाल के बयान पर भारत में मौजूद सिंगापुर के दूतावास ने ट्वीट कर लिखा कि सिंगापुर में कोरोना के नए स्ट्रेन पाए जाने की बात में कोई सच्चाई नहीं है. टेस्टिंग से पता चला है कि सिंगापुर में कोरोना का B.1.617.2 वेरियंट ही मिला है, इसमें बच्चों से जुड़े कुछ मामले भी शामिल हैं. जाहिर है की कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है और वैज्ञानिको का साफ़ कहना है कि तीसरी लहर और भी खतरनाक साबित हो सकती है और हालातों को ध्यान में न रखा गया तो.