CM ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर की ये खास अपील, जानिए क्या है पूरा मामला

पश्चिम बंगाल में सियासी हलचल थमने का नाम नहीं ले रही है. दरअसल बंगाल में हाल ही में विधानसभा चुनाव संपन्न हुए है. वही एक बार फिर से ममता बनर्जी की सरकार ने बंगाल की गद्दी को संभाल लिया है. वही दूसरी तरफ CM ममता बनर्जी और मोदी सरकार के बीच 36 का आंकड़ा भी देखने को मिल रहा है.

हालाँकि इस बीच एक बड़ी खबर सामने आ रही है. जानकारी के लिए बता दें कि CM ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखी है. जिसमें उन्होंने राज्य के मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय को दिल्ली बुलाने के आदेश को रद्द करने का अनुरोध किया है. बता दें कि ममता बनर्जी ने पत्र में लिखा है कि ‘पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय को दिल्ली बुलाने के एकतरफा आदेश से स्तब्ध और हैरान हूं. यह एकतरफा आदेश कानून की कसौटी पर खरा नहीं उतरने वाला, ऐतिहासिक रूप से अभूतपूर्व तथा पूरी तरह से असंवैधानिक है.’

इसके अलावा आगे उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि ‘केंद्र ने राज्य सरकार के साथ विचार-विमर्श के बाद मुख्य सचिव का कार्यकाल एक जून से अगले तीन महीने के लिए बढ़ाने जो आदेश दिया था. उसे ही प्रभावी माना जाए.’ साथ ही साथ उन्होंने ये भी लिखा कि ‘मुख्य सचिव को 24 मई को कैबिनेट सचिव द्वारा तीन महीने के लिए विस्तार दिया गया था और 28 मई को ‘एकतरफा’ आदेश देकर उन्हें दिल्ली में डीओपीटी को को रिपोर्ट करने के लिए कहा गया.’

इतना ही नहीं ममता बनर्जी ने इस पर सवाल भी उठाते हुए पूछा कि ’24 मई से 28 मई के बीच क्या हुआ? यह बात समझ में नहीं आई. आदेश में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति  के किसी विवरण या कारणों का उल्लेख नहीं है.’ जानकारी के लिए बता दें कि अलपन बंद्योपाध्याय का कार्यकाल 31 मई 2021 को खत्म हो रहा था, लेकिन कोरोना के चलते प्रबंधन को ध्यान में रखते हुए उन्हें 3 महीने का एक्सटेंशन दिया गया है. जाहिर है कि बंगाल में कोरोना से हालात अभी नाजुक ही है.