सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर दिल्ली HC ने ख़ारिज की याचिका, याचिकाकर्ता पर लगाया इतने लाख रूपए का जुर्माना

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को लेकर राजनीति कम होने का नाम नहीं ले रही है. जानकारी के लिए बता दें कि जहाँ एक तरफ देश में कोरोना का कहर हाहाकार मचा रहा है. वही दूसरी तरफ सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर निशाना साध रही है.

वही अब इस मामले पर एक बड़ी खबर सामने आ रही है. जानकारी के लिए बता दें कि सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर रोक लगाने की मांग वाली याचिका को दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है. बता दें कि कोर्ट ने याचिका ख़ारिज करते हुए कहा कि निर्माण कार्य पर रोक लगाने का सवाल ही नहीं उठता. मजदूर साइट पर काम कर रहे हैं. इसके अलावा कोर्ट ने याचिका दाखिल करने वालों पर 1 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है.

साथ ही कोर्ट ने कहा कि ये कोई पीआईएल नहीं है. यह एक मोटिवेटेड पेटिशन है. जानकारी के लिए बता दें कि याचिका में मांग कि गयी थी कि  कोरोना के दौरान किसी भी ऐसे प्रोजेक्ट को आगे बढ़ने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए. साथ ही याचिका में ये भी कहा गया था कि इस प्रोजेक्ट की वजह से महामारी के दौर में कई लोगों की जान खतरे में है.  जाहिर है कि जहाँ एक तरफ देश में कोरोना का कहर मंडरा रहा है. वही दूसरी तरफ विपक्ष लगातार सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को लेकर केंद्र सरकार को घेरने का काम कर रही है.