Ola से यात्रा करना होगा सुरक्षित, कंपनी ने अपने आधे से अधिक कर्मचारियों और उनके परिवारों को लगवाया टीका

ओला कर्मचारी टीका

ओला कर्मचारी टीका

नई दिल्ली। देश में जितनी तेजी से कोरोना वायरस के मामले बढ़े हैं उतनी ही तेजी से कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य भी तेज हुआ है। ऐसे में कई कंपनियों ने भी अपने कर्मचारियों और उनके परिवारों को टीका लगवाने (Vaccination) का भार उठाया है। अब इसी कड़ी में ऑनलाइन वाहन बुकिंग मंच उपलब्ध कराने वाली ओला (Ola) ने भी यात्रियों की सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए अपने कर्मचारियों को टीका लगवाया है। कंपनी ने कहा कि उसने अपने 50 प्रतिशत से अधिक कर्मचारियों और उन पर आश्रितों को टीके की पहली खुराक लगवा दी है। कंपनी ने एक बयान में यह जानकारी दी।

प्रमुख अस्पतालों के साथ की भागीदारी

ओला ने अपने कर्मचारियों के टीकाकरण के लिये प्रमुख अस्पतालों के साथ भागीदारी की है और ओला परिसर में टीकाकरण शिविर लगाया है। कंपनी ने मार्च में घोषणा की थी कि वह अपने सभी कर्मचारियों और उन पर आश्रित लोगों के साथ-साथ ठेकेदारों, सलाहकारों और उन पर आश्रित लोगों को मुफ्त में टीकाकरण करवाएगी। ओला के बयान के अनुसार, कंपनी अपने 50 प्रतिशत से अधिक कर्मचारियों और उन पर आश्रितों को टीके की पहली खुराक दिलवा चुकी है।' बयान में कहा गया है कि ओला ने अप्रैल में 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण पूरा किया।

फिलहाल बेंगलुरु में चल रहा टीकाकरण

सरकार की मई में 18 से अधिक आयु वर्ग के लिए टीकाकरण शुरू किये जाने के साथ बाकी कर्मचारियों और अन्य को टीकाकरण का अभियान पिछले सप्ताह शुरू हुआ। ओला ने कहा कि टीकाकरण अभियान फिलहाल बेंगलुरु में चल रहा है, जहां कंपनी के अधिकतर कर्मचारी हैं। आने वाले हफ्तों में टीके की आपूर्ति में सुधार के साथ अन्य शहरों में इसका विस्तार किया जाएगा। ओला समूह के मुख्य मानव संसाधन अधिकारी रोहित मुंजाल के अनुसार, महामारी के खिलाफ अभियान में टीकाकरण एक महत्वपूर्ण कदम है और हमारा लक्ष्य आने वाले हफ्तों में अपने सभी लोगों का टीकाकरण करना है।