कोरोना को मात देने अब भारत में sputnik v का उत्पादन शुरू, सालाना 10 करोड़ टीके का होगा प्रोडक्शन

स्पुतनिक-वी

स्पुतनिक-वी

नई दिल्ली। भारत में जैसे जैसे कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है उतनी ही तेजी से अब दवा कंपनियों ने इसकी दवाई को लेकर कमर कस ली है। अब घरेलू दवा कंपनी Panacea Biotec ने रुस के सरकारी निवेश कोष रसियन डारेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (Russian Direct Investment Fund) के साथ मिलकर भारत में स्पुतनिक-वी (sputnik v) कोरोना वायरस टीके का उत्पादन शुरू कर दिया है। एक संयुक्त बयान में यह जानकारी दी गई है। पैनेसिया बायोटेक के हिमाचल प्रदेश के बद्दी कारखाने में तैयार की गई Covid-19 के स्पूतनिक-वी टीके की पहली खेप रूस के गामालेया केन्द्र भेजी जायेगी जहां इसकी गुणवत्ता की जांच परख होगी।

पूर्ण स्तर पर उत्पादन जल्द शुरू होने की उम्मीद

रूस का आरडीआईएफ स्पुतनिक-वी टीके को अंतरराष्ट्रीय बाजार में उपलब्ध कराता है। आरडीआईएफ और पैनेसिया बायोटेक ने भारत में स्पुतनिक-वी टीके की बहर साल 10 करोड़ खुराक उत्पादन करने पर सहमत हुये हैं। दोनों की ओर से अप्रैल में इसकी घोषणा की गई थी। संयुक्त बयान के मुताबिक पूर्ण स्तर पर उत्पादन इन गर्मियों में ही शुरु होने की उम्मीद है। हालांकि, इसमें स्पष्ट तौर पर महीने का जिक्र नहीं किया गया है जब बड़े पैमाने पर टीके का उत्पादन शुरू होगा। आरडीआईएफ के मुख्य कार्यकारी किरिल्ल डमित्रिव ने कहा कि पैनेशिया बायोटेक के साथ मिलकर भारत में उत्पादन की शुरुआत देश को महामारी से लड़ने में मदद की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने कहा कि स्पुतनिक-वी टीके का उत्पादन शुरू होने से भारत में कोरोना वायरस महामारी के संकटपूर्ण दौर से जितना संभव होगा उतनी जल्दी आगे निकलने के सरकार के प्रयासों को समर्थन मिलेगा। बाद में टीके का दूसरे देशों को निर्यात भी किया जा सकेगा ताकि दुनिया के अन्य देशों में भी महामारी के प्रसार को रोका जा सके।