Vaccine की खपत बढ़ाने कर्नाटक में टीका विनिर्माण इकाई स्थापित करेगा Bharat Biotech

भारत बायोटेक

भारत बायोटेक

बेंगलुरु। देश में कोरोना वायरस (Corona Virus India) के मामल जिस रफ्तार से बढ़ रहे हैं उतनी ही रफ्तार से कोरोना वैक्सीन की मांग भी बढ़ती जा रही है। लगभग सभी राज्यों में कोरोना वैक्सीन अभियान (Corona Virus Campaign) के तहत लोगों को टीके लगाए जा रहे हैं। ऐसे में टीके की बढ़ती मांग को देखते हुए भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने भी कमर कस ली है। कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री और राज्य कोविड कार्य बल के प्रमुख डॉ. सी एन अश्वत नारायण ने कहा कि भारत बायोटेक बेंगलुरु के पास कोलार जिले में जल्द ही कोवैक्सीन टीके का एक विनिर्माण संयंत्र स्थापित करेगा। उन्होंने कहा कि संयंत्र के लिए निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और सरकार ने निवेशकों को राज्य में टीके का निर्माण करने के लिए आमंत्रित किया है। डॉ. नारायण सूचना प्रौद्योगिकी एवं जैव-प्रौद्योगिकी विभाग भी देखते है।

उप मुख्यमंत्री ने एक बयान में कहा कि पड़ोस के कोलार जिले के मलूर औद्योगिक क्षेत्र में जल्द से जल्द भारत बायोटेक के कोवैक्सीन टीके का विनिर्माण संयंत्र स्थापित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने परियोजना को मंजूरी दे दी है और कंपनी प्रशासनिक जरूरतों को संसाधित कर रही है। निर्माण कार्य पहले ही शुरू हो गया है और जितनी जल्दी संभव हो, उतनी जल्दी विनिर्माण परिचालन शुरू करने के लिए इसे जल्दी ही पूरा कर लिया जाएगा। नारायण ने साथ ही कहा कि राज्य टीका निर्माण से जुड़ी किसी भी कंपनी का स्वागत करता है और उसे पूरा सहयोग देगा।

उधर, भारत बायोटेक के 50 कर्मचारियों को हुआ कोरोना

देश में कोरोना की वैक्सीन बना रही कंपनी भारत बायोटेक के अपने ही 50 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कोवैक्सीन बना रही भारत बायोटेक की ज्वाइंट मैनेजिंग डायरेक्टर सुचित्रा एल्ला ने ट्ववीट कर यह जानकारी दी। इस पर कई लोगों ने कंपनी और उनकी वैक्सीन पर सवाल उठाये हैं। वैसे सुचित्रा एल्ला की ये ट्वीट राज्य सरकारों द्वारा वैक्सीन मुहैया नहीं कराने जाने की शिकायतों के जवाब में थी। कोवैक्सीन की सप्लाई को लेकर कुछ राजनेताओं की ओर की गई टिप्पणियों का जिक्र करते हुए सुचित्रा ने ट्वीट किया कि कुछ राज्यों के हमारे इरादे को लेकर शिकायत करने से निराशा होती है। हमारे 50 एंप्लॉयी कोरोना होने के कारण छुट्टी पर हैं। इसके बावजूद हम आपके लिए लॉकडाउन की स्थिति में सप्ताह में सातों दिन और 24 घंटे काम कर रहे हैं।