Whatsapp Privacy Policy : बैकफुट पर आया व्हाट्सऐप, निजता नीति शर्तों से जुड़ा अपना फैसला लिया वापस

व्हाट्सएप निजता नीति

व्हाट्सएप निजता नीति

नई दिल्ली। अपनी निजता नीति के चौतरफा विवाद झेल चुकी निशुल्क मैसेजिंग एवं कॉलिंग सेवा देने वाले कंपनी व्हाट्सऐप (Whatsapp) बैकफुट पर आ गई है। व्हाट्सऐप ने अपनी विवादित निजता नीति से जुड़ा अपडेट स्वीकार करने के लिए उपयोगकर्ताओं को दी गयी 15 मई तक की समयसीमा से जुड़ा फैसला वापस ले लिया है और कहा है कि शर्तों को स्वीकार न करने पर भी खाते हटाए नहीं जाएंगे। गौरतलब है कि व्हाट्सऐप की प्रस्तावित नीति पर उपयोगकर्ताओं ने अपने डाटा के अधिकार को लेकर चिंताएं जताई थी।

लोगों को अपनी निजी जानकारी शेयर किए जाने का था खतरा

व्हाट्सऐप के तमाम उपयोगकर्ताओं (WhatsAPP Users) ने कहा कि नयी नीति के तहत उनका डेटा व्हाट्सऐप का स्वामित्व रखने वाली कंपनी फेसबुक (Facebook) के साथ शेयर किए जाएगा। इसको लेकर इस निशुल्क मैसेजिंग एवं कॉलिंग सेवा देने वाले कंपनी की काफी आलोचनाएं हो रही थीं। व्हाट्सऐप के एक प्रवक्ता ने कहा कि नीति से जुड़े अपडेट को स्वीकार न पर 15 मई को कोई खाता डिलीट नहीं किया जाएगा। उन्होंने ईमेल (Email) के जरिए भेजे गए एक सवाल के जवाब में शुक्रवार को कहा कि इस अपडेट की वजह से 15 मई को कोई भी खाता डिलीट नहीं किया जाएगा और भारत में किसी की भी व्हाट्सऐप सेवा बंद नहीं की जाएगी। हम लोगों को अगले कुछ हफ्तों में नयी जानकारी भेजेंगे। प्रवक्ता ने कहा कि जहां नयी सेवा शर्तों का अपडेट पाने वाले ज्यादातर उपयोगकर्ताओं ने उसे स्वीकार कर लिया ह, कुछ लोगों के पास अब भी यह अपडेट नहीं पहुंचा है। प्रवक्ता ने हालांकि साफ नहीं किया कि कंपनी ने किन कारणों से अपने रुख में बदलाव किया और इन शर्तों को स्वीकार करने वाले उपयोगकर्ताओं की संख्या का भी खुलासा नहीं किया।