जानिए अब योगी सरकार के किस कदम का कायल हुआ WHO, तारीफ में कही ये बात

भारत में आई कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप अब धीरे धीरे कम होता जा रहा है. कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे देश में जमकर तबाही मचाई है. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बाद देश के कई राज्यों ने आख़िरकार लॉकडाउन करने का ही फ़ैसला किया था. जिसके बाद अब राहत भरी खबरें आना शुरू हो गयी हैं.

जानकारी के लिए बता दें उत्तरप्रदेश में कोरोना के मामले बढ़ने के बाद योगी सरकार ने पहले तो वीकेंड लॉकडाउन की घोषणा की और बाद में उसे बढ़ाने का फ़ैसला किया. CM योगी खुद कोरोना संक्रमित थे लेकिन उन्होंने राज्य की जनता को लेकर एक के बाद एक बड़े फ़ैसले लेते रहे. योगी सरकार के काम की एक बार फिर WHO यानि कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने तारीफ़ की है.

दरअसल प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों के बाद योगी सरकार ने कोरोना कर्फ़्यू के साथ साथ लोकल स्तर के निरीक्षण पर ज़ोर दिया. जिसका फ़ायदा अब दिखने लगा है और केसों में कमी आती दिख रही है. योगी सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के मरीज़ों का पता करने के लिए 1.41 लाख से ज़्यादा टीमें और 21242 सुपरवाइज़र्स को लगाया जिसके अब सकारात्मक परिणाम आने शुरू हो गए हैं. यूपी में गठित की गयी टीमों ने गाँव गाँव जाकर उन सभी लोगों का टेस्ट किया जिनमें कोरोना के लक्षण दिखे बाद में जिसकी रिपोर्ट पॉज़िटिव आई उन्हें आइसोलेट कर दवा की किट दी साथ ही जो उनके संपर्क में आए उनको भी क्वॉरंटीन करके टेस्ट किया. अब WHO ने भी योगी सरकार के इस कदम की जमकर तारीफ़ की है.

ग़ौरतलब है कि WHO ने कहा है कि ‘उत्तर प्रदेश सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 मरीजों की पहचान के लिए 1.41 लाख से ज्यादा टीमों और 21242 सुपरवाइजर्स को लगाया है.’ डब्ल्यूएचओ ने कहा, ‘यूपी में गठित टीमों ने 97941 गांवों में जाकर उन सभी लोगों का टेस्ट किया है, जिनमें कोरोना के लक्षण दिखे हैं. इस दौरान जिन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उन्हें उन्हें आइसोलेट किया गया है और दवा की किट भी दी गई है। इसके अलावा संक्रमितों के संपर्क में आए सभी लोगों को क्वारंटाइन करके टेस्ट किया गया है.’ WHO ने यूपी सरकार के इस फ़ॉर्म्युले की एक के बाद एक ट्वीट करके तारीफ़ की है.