सतीश कौशिक ने कोरोना संक्रमण के दौरान इस एक्टर की मदद की, 55 दिनों तक चला था इलाज

सतीश कौशिक ने कोरोना संक्रमण के दौरान इस एक्टर की मदद की, 55 दिनों तक चला था इलाज

सतीश कौशिक ने कोरोना संक्रमण के दौरान इस एक्टर की मदद की, 55 दिनों तक चला था इलाज

कोरोना की दूसरी लहर ने क्या आम क्या खास किसी को भी नहीं बख्शा। फिल्म और टेलिविजन के कई कलाकार इसकी चपेट में आ गए थे। कई लोग इस बीमारी से जंग हार गए तो कई ने जिंदगी की इस जंग को जीत लिया। इस बीमारी की वजह से लोगो के काम पर भी तगड़ा असर पड़ा। कई लोगो को इस बीमारी और उस पर हो रहे इलाज के चलते आर्थिक तंगी से भी गुजरना पड़ा। ऐसे ही एक टीवी एक्टर अनिरुद्ध दवे (Anirudh Dave) भी है। उन्होंने इस बात की जानकारी दी है कि वह कोरोना वायरस से 55 दिन तक जंग लड़ते रहे। कोरोना के खिलाफ इस जंग में अनिरुद्ध दवे की मदद बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर सतीश कौशिक (Satish Kaushik) ने की थी।

अनिरुद्ध दवे ने कोविड-19 को हराने के बाद एक मीडिया से बातचीत की है। इस बातचीत में एक्टर ने बताया कि सतीश कौशिक ने यह सुनिश्चित किया था कि अस्पताल में उन्हें सबसे बेहतर इलाज और सुविधाएं मिलें। अनिरुद्ध दवे ने कहा, 'सतीश जी ने मेरी बहुत मदद की है। उन्होंने मेरे लिए डॉक्टरों और कई लोगों से बात की है।' जब मीडिया रिपोर्टर ने अनिरुद्द की कॉलर ट्यून की तारीफ की तो एक्टर ने इस बात का खुलासा किया कि ये भी सतीश कौशिक के कारण है। एक्टर ने कहा, "उस समय मेरी कॉलर ट्यून राज कपूर की फिल्म 'मेरा नाम जोकर' से 'कल खेल में हम हो ना हो' लगी थी। सतीश जी ने मुझसे कहा कि मुझे अपनी कॉलर ट्यून बदलनी चाहिए और 'मिस्टर इंडिया' का गाना लगाना चाहिए।' इसके बाद अनिरुद्ध ने फिल्म मिस्टर इंडिया का गाना 'जिंदगी की यही रीत है, हार के बाद ही जीत है' को अपनी कॉलर ट्यून लगाया।

बता दें कि अनिरुद्ध और सतीश कौशिक की दोस्ती उनकी फिल्म 'छोरियां छोरों से कम नहीं होती' (Choriyan Choro Se Kam Nahi Hoti) के दौरान काफी तगड़ी हो गई थी। अनिरुद्ध दवे और सतीश कौशिक एक वेब सीरीज पर साथ में काम कर रहे थे। इसी दौरान 23 अप्रैल को अनिरुद्ध दवे कोरोना संक्रमित पाए गए। जिसके बाद अनिरुद्ध का 55 दिनों तक भोपाल के एक अस्पताल में इलाज चला था। इस दौरान उनकी हालत बेहद नाज़ुक थी, लेकिन कोरोना से अपनी तगड़ी लड़ाई के बाद अनिरुद्ध आखिरकार स्वस्थ होकर घर वापस आ गए।