नौकरी से निकाले गए Air India के विमान चालकों को कोर्ट ने दी राहत- पुनर्बहाली का दिया आदेश

एयर इंडिया विमाल चालक

एयर इंडिया विमाल चालक

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) ने राष्ट्रीय विमानन कंपनी एयर इंडिया (Air India) के पिछले वर्ष नौकरी से निकाले गए सभी विमान चालकों (Pilots) को बड़ी राहत देते हुए कंपनी के पिछले वर्ष के निर्णय को मंगलवार को पलट दिया और उनकी पुनर्बहाली के आदेश दिए। न्यायमूर्ति ज्योति सिंह ने Air India को यह निर्देश दिए साथ ही अपने आदेश में उन्होंने कहा कि इन विमान चालकों को पुराने भत्ते भी देने होंगे। अदालत ने यह भी कहा कि अनुबंध पर काम करने वाले विमान चालकों के अनुबंध को भविष्य में बढ़ाने का निर्णय एअर इंडिया उनके कामकाज के आधार पर लेगी।

40 से अधिक याचिकाओं पर दिया आदेश

अदालत ने कहा कि मामले में विस्तृत आदेश बुधवार को ही उपलब्ध हो सकेंगे। अदालत ने यह आदेश विमान चालकों की ओर से दाखिल 40 से अधिक याचिकाओं पर दिया, जिनकी नौकरी एअर इंडिया ने पिछले वर्ष 13 अगस्त को समाप्त कर दी थी।

पायलटों ने ये दी थी दलील

पायलटों ने कोर्ट में दलील दी थी कि उन्होंने निर्धारित समयसीमा छह महीने बीतने से पहले ही अपना त्यागपत्र वापस ले लिया था। साथ ही इस संबंध में एयर इंडिया को आवेदन दिया गया था, लेकिन एयर इंडिया ने अभी तक इसका कोई जवाब नहीं दिया है। याचिकाकर्ताओं ने दलील दी कि ऐसे में उनका त्यागपत्र वापस समझा जाए और उन्हें वापस नौकरी पर रखे जाने का निर्देश दिया जाए।

एयर इंडिया ने यात्रियों को दी राहत

कोरोना वायरस महामारी के बीच सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया ने अपने यात्रियों को बड़ी राहत दी है। एयर इंडिया के यात्री बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के यात्रा की तारीख, उड़ान संख्या और सेक्टर में बदलाव कर सकते हैं। यह ऑफर ग्राहकों के लिए 30 जून 2021 तक उपलब्ध है।