केंद्र सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन को लेकर राज्यों से कही ये बड़ी बात…

देश में कोरोना की दूसरी लहर ने बहुत ही भयावह तरीके से कहर बरपाया है. कोरोना की दूसरी लहर की गति इतनी तीव्र थी कि कम ही समय में बहुत ही अधिक लोग संक्रमित हो गये थे. हालात ऐसे बन गये थे कि सब लोग किसी तरह से इस संक्रमण से बचने के प्रयास में लगे हए थे और इस कोरोना संकट से बचाव के लिए हमारे पास मात्र एक ही साधन था वो है कोरोना को मात देने वाला टीका लगवाना. तो आईये जान लेते हैं कि कोरोना संकट से बचाव के लिए वैक्सीन को लेकर सरकार ने क्या फैसला लिया है.

बता दें कि केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश दिया है. केंद्र सरकार ने अपने निर्देश में कहा है कि राज्य वैक्सीन से जुड़ी डेटा और स्टोरेज की तापमान की जानकारी सार्वजनिक न करें. केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को यह निर्देश पत्र के माध्यम से दिया है. बता दें कि पत्र में निर्देश के तौर पर लिखा है कि इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क सिस्टम के डाटा यानि कि वैक्सीन स्टॉक और साथ ही वैक्सीन स्टोरेज के तापमान को सार्वजनिक मंचों पर साझा नहीं करने की सलाह दी है.

बता दें कि केंद्र सरकार ने स्पष्ट रूप से कहा है कि यह एक संवेदनशील जानकारी है. इसे केवल सिस्टम में सुधार करने के लिए प्रयोग किया जाना चाहिए. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी अभी जल्द ही एक पत्र के माध्यम से बताया है कि केन्द्र ने संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के समर्थन से UPI के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क सिस्टम को प्रारम्भ किया है. इसका उपयोग राष्ट्रीय से लेकर उप – जिला स्तर पर टीके के स्टॉक की स्थिति और तापमान को ट्रैक करने के लिए किया जाता है.