कोरोना काल में हुआ भारतीय रेलवे को बहुत नुकसान, कमाई में आई इतने प्रतिशत की कमी

कोरोना वायरस की वजह से देश तमाम प्रकार की परेशानियों को झेल रहा है. कोरोना महामारी ने देश को बहुत बुरे तरीके से तोड़ के रख दिया है. देश कोरोना की दूसरी लहर के कारण युद्ध स्तरीय संकट के दौर से गुजर रहा है. इसी वजह से हर कार्य में मंदी चल रहा है. कोरोना के भयावह कहर से बचने के लिए लॉकडाउन लगाना पड़ गया था. इसी वजह से अधिक कार्य रोक दिए गये थे. इसी के साथ ही कोरोना के वजह से भारतीय रेलवे भी प्रभावित हो गया है.

आपको बता दें कि वर्ष 2020 – 2021 के वित्त वर्ष में रेलवे को प्लेटफॉर्म टिकट से आमदनी पर भारी नुकसान हुआ है. आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार पिछले वित्त वर्ष की तुलना में इस बार प्लेटफॉर्म टिकट बिक्री रेवेन्यु में करीब 94 प्रतिशत की गिरावट आई है. बता दें कि कोरोना काल में भारतीय रेल सेवा को पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया था. जिसके कारण लोगो की आने जाने की प्रिक्रिया बंधित हो गई थी इस वजह से प्लेटफॉर्म टिकट बिक्री नहीं हुआ और 94 प्रतिशत की गिरावट आ गई है.

रेलवे प्लेटफॉर्म की आमदनी पर हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए प्लेटफॉर्म टिकट के दाम 10 रूपए से बढ़कर 30 रूपए कर दिया गया है. कुछ निश्चित जोन में प्लेटफॉर्म टिकट के दाम 50 रूपए करने का भी फैसला किया गया है. साथ ही रेलवे ने कहा है कि टिकटों के दाम में बढ़ोतरी अस्थायी है. और ऐसा महामारी को रोकने के लिए किया गया है. बता दें कि उत्तर रेलवे ने दिन शनिवार को घोषणा किया कि राजधानी दिल्ली डिविजन के आठ प्रमुख स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकटों की बिक्री फिर से शुरू की जाएगी.