वैक्सीन पर पीएम मोदी के मास्टर स्ट्रोक से कांग्रेस हुई दो फाड़, कुछ कर रहे समर्थन तो कुछ अब भी कर रहे विरोध

सोमवार को राष्ट्र के नाम संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने 18 साल के ऊपर के सभी लोगों को मुफ्त वैक्सीन देने का ऐलान किया. पीएम मोदी के इस ऐलान ने वैक्सीन को लेकर चल रही विपक्ष की राजनीति को एक झटके में ख़त्म कर दिया. पीएम मोदी के इस ऐलान ने सबसे ज्यादा परेशान कांग्रेस को किया है. उसे समझ नहीं आ रहा कि इसका समर्थन किया जाए या विरोध. इस पूरे मुद्दे पर कांग्रेस दो फाड़ हो गई है. कांग्रेस के कुछ नेताओं ने मुफ्त वैक्सीन के ऐलान का स्वागत किया तो कुछ नेताओं ने सवाल खड़े किए.

कांग्रेस ने पीएम मोदी के ऐलान को आधा अधुरा करार देते हुए सवाल उठाया कि अगर वैक्सीनेशन फ्री है तो फिर प्राइवेट अस्पताल इसके लिए चार्ज क्यों लेंगे? कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि, ‘एक साधारण सवाल: अगर टीके सभी के लिए मुफ्त हैं तो फिर निजी अस्पतालों को पैसे क्यों लेने चाहिए?’ कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता और राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार को ये फैसला सुप्रीम कोर्ट के दवाब में लेना पड़ा है. राहुल गाँधी और सोनिया गाँधी पहले से ही वैक्सीन को सबके लिए फ्री करने की मांग कर रहे थे लेकिन सरकार नहीं मान रही थी. जब सुप्रेम कोर्ट ने सरकार को कटघरे में खड़ा किया तो सरकार को झुकना पड़ा.

हालाँकि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि टीकों की खरीदारी एवं वितरण का जिम्मा अपने हाथ में लेने का केंद्र का फैसला उन राज्यों के लिए मददगार होगा, जिन्हें टीके खरीदने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. अच्छी बात है कि केंद्र ने पूरे देश में सभी आयु वालों के लिए टीकों की खरीदारी एवं वितरण का जिम्मा अपने हाथ में लेने का फैसला किया है.