खामियों को लेकर सुशांत केस में सीबीआई की दूसरी टीम से जांच कराने की उठी मांग, हाईकोर्ट जल्द करेगा सुनवाई

पटना हाईकोर्ट (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना हाईकोर्ट (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बॉलीवुड अभिनेता (bollywood actor) सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले (sushant singh rajput suicide case) की जांच हाईकोर्ट की निगरानी में सीबीआई (CBI) की दूसरी टीम से कराए जाने को लेकर मांग उठी है। इसको लेकर बिहार की राजधानी पटना स्थित हाईकोर्ट (Patna High Court) में याचिका दायर की गई है। इस याचिका पर पटना हाईकोर्ट आगामी 3 अगस्त को सुनवाई करेगा। वर्तमान में अदालत ने सुशांत मामले में किसी तरह का आदेश देने से स्पष्ट इनकार कर दिया है। पटना हाईकोर्ट में मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय करोल और न्यायमूर्ति एस कुमार की खंडपीठ ने कानून के छात्र द्विवेंद्र देवतादिन दुबे की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई की।

याचिका में कहा गया है कि सुशांत सिंह राजपूत के पिता की तरफ से पटना के राजीवनगर थाने में दर्ज प्राथमिकी 241/20 दर्ज कराई गई थी। जिसको 19 अगस्त 2020 को सीबीआई को हस्तांतरित कर दिया गया। वहीं अभी तक की सीबीआई जांच संतोषजनक नहीं रही है। याचिका में मांग उठाई गई है कि इस वक्त सुशांत मामले की जांच में लगी सीबीआई टीम को बदल कर किसी दूसरे सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी की टीम को सौंप दी जाए। याचिकाकर्ता का कहना है कि इस मामले में सीबीआई की ओर से अब तक की जांच बेहतर ढंग से नहीं की गई है।

याचिका में कहा गया है कि अब तक की जांच में कई खामियां नजर आ रही हैं। कहा गया कि 14 जून 2020 को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत उनके मुंबई (Mumbai) स्थित बांद्रा फ्लैट में हुई थी। बावजूद इसके मुंबई पुलिस (Police) की ओर से 45 दिनों तक मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई। कई लोग संदेह के घेरे में थे। पर जांच में देरी होने की वजह से साक्ष्यों को मिटाए जाने का पूरा मौका मिल गया।

यह भी कहा गया है कि अभिनेता सुशांत की मौत के कुछ दिन पहले 8 जून 2020 को उनके मैनेजर की मौत हो गई थी। इस पर भी संदेह जाहिर किया गया है। वहीं मुंबई पुलिस ने माना है कि सुशांत सिंह राजपूत की लंबाई 5 फीट 10 इंच है। सुशांत का शव पलंग पर था व छत से पलंग की ऊंचाई केवल 5 फीट 11 इंच है। सिर्फ एक इंच ऊपर से कोई कैसे आत्महत्या कर सकता है।

इन खामियां की जांच होना है जरूरी

याचिका में ऐसी कई कमियों पर प्रकाश डालते हुए जांच कराए जाने की जरूरत पर जोर दिया गया है। वहीं सीबीआई इन सभी बातों को नजरअंदाज कर रही है। इस पर याचिकाकर्ता ने जांच में लगी मौजूदा सीबीआई टीम को बदल कर नई टीम को जिम्मेदारी सौंपने की मांग अदालत के समक्ष उठाई है। यह भी कहा गया है कि नई सीबीआई की टीम पटना हाईकोर्ट की निगरानी में सुशांत मामले की जांच करे व समय-समय पर अपनी जांच की प्रगति रिपोर्ट अदालत को दी जाए। याचिका में मामले को लेकर केंद्र, राज्य सरकार और सीबीआई को नोटिस जारी करने की मांग अदालत से उठाई गई है।

अदालत ने किसी तरह का नोटिस जारी करने से किया इंकार

वहीं अदालत ने वर्तमान में इससे संबंधित किसी भी तरह का नोटिस जारी करने से इनकार कर दिया। साथ ही साफ कर दिया कि केस की सुनवाई लंबित होने के दौरान कार्रवाई पर किसी प्रकार की रोक नहीं होगी। अदालत ने मामले पर अगली सुनवाई की तारीख 3 अगस्त निर्धारित की। याद रहे अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के पिता कृष्ण किशोर सिंह ने राजधानी पटना के राजीव नगर थाने में 25 जुलाई 2020 को इसको लेकर प्राथमिकी दर्ज कराई थी। जिसको बाद में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई को स्थानांतरित कर जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंप दिया गया।