पंजाब कांग्रेस में नहीं थमा कलह, कांग्रेस आलाकमान से बिना मिले चंडीगढ़ पहुंचे कैप्टन अमरिंदर सिंह

देश में कोरोना का कहर खत्म नहीं हो रहा है वही दूसरी तरफ राजनीतिक हलचल भी थमने का नाम नहीं ले रही है. दरअसल पंजाब प्रदेश कमेटी में विवाद बढ़ता ही जा रहा है और इसी वजह से राजनीतिक हलचल भी तेज़ हो गयी है. जानकारी के लिए बता दें कि चुनाव में कांग्रेस द्वारा किये गये वादों को पूरा न करने के वजह से कांग्रेस विधायाकों ने सरकार पर सवाल उठाना प्रारम्भ कर दिया है. वही दूसरी तरफ पंजाब में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच भी तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है.

जिस वजह से पंजाब कांग्रेस में काफी कलह मची हुई है. जिससे पार्टी आलाकमान की परेशानी भी बढ़ गयी है. जानकारी के लिए बता दें कि कांग्रेस की केंद्रीय कमेटी के सामने अपनी बात कहने के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बुधवार को वापस चंडीगढ़ लौट गए.  खास बात ये है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दो बार दिल्ली का दौरा किया एल्किन एक बार भी उन्होंने कांग्रेस के आलाकमान के साथ मुलाकात नहीं की.

वही दूसरी तरफ पंजाब कांग्रेस के सुनील झाखड़, प्रताप सिंह बाजवा ने राहुल गाँधी से मुलाकात की. जिसके बाद बाजवा ने कहा कि हमने मौजूदा हालात पर विस्तार से चर्चा की है, राहुल गांधी से पार्टी को मजबूत करने और आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा हुई है.  वही दूसरी तरफ सवाल बना हुआ है कि क्या अभी तक कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं हुआ है क्यूंकि पंजाब में नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है.