बंगाल के पूर्व मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को लेकर एक्शन में केंद्र सरकार, उठाया ये बड़ा कदम

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने के बाद भी राजनीतिक गलियारों में हलचल मची हुई है. केंद्र सरकार और ममता बनर्जी के बीच पिछले काफ़ी समय से तनातनी बनी हुई है. इसी बीच ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार को झटका देते हुए बड़ा दाव चल दिया था. ममता बनर्जी ने अलपन बंदोपाध्याय को रिटायर कर अपना मुख्य सलाहकार बना लिया.

जानकारी के लिए बता दें केंद्र सरकार ने ममता बनर्जी के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय की सेवाएं मांगी थीं और राज्य सरकार को प्रदेश के शीर्ष नौकरशाह को तत्काल कार्यमुक्त करने को कहा था. जिसके बाद ममता बनर्जी ने ये दाव चलकर सभी को सोच में डाल दिया लेकिन अब केंद्र सरकार ने भी अलपन बंदोपाध्याय को लेकर कदम उठाया है, जिसके चलते उनकी मुसीबत बढ़ सकती है.

दरअसल केंद्र सरकार ने अलपन को डिज़ास्टर मैनेजमेंट एक्ट 51 (B) के कारण बताओ नोटिस जारी किया है. अब अलपन बंदोपाध्याय को इस नोटिस का तीन दिन में जवाब देना है नही तो उनके लिए बड़ी मुसीबत खड़ी हो सकती है.

ग़ौरतलब है कि अगर केंद्र सरकार के नोटिस का तीन दिन में जवाब नही आता है या फिर जवाब से सरकार संतुष्ट नही होती है तो उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई या FIR की जा सकती है. डिज़ास्टर मैनेजमेंट के तहत कोई भी अधिकारी या कर्मचारी केंद्र सरकार या राज्य सरकार के किसी आदेश का पालन नही करता है तो उसे 1 साल की जेल या फिर जुर्माना दोनों लगाया जा सकता है.