कश्मीरी नेताओं संग बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले खत्म होगी ‘दिल की दूरी’ और ‘दिल्ली की दूरी’

प्रधानमंत्री के आवास पर आयोजित जम्मू – कश्मीर के नेताओं की सर्वदलीय बैठक जिस तरह से लम्बे समय तक हुयी उससे यह बात स्पष्ट है कि सभी मसलों पर व्यापक बातचीत हुई और बहुत ही शांति पूर्ण ढ़ंग से अच्छे माहौल में की गई है. प्रधानमंत्री द्वारा किये गये 24 जून दिन गुरुवार को जम्मू – कश्मीर के 14 नेताओं के साथ सर्वदलीय बैठक में जम्मू – कश्मीर के विकास पर और अधिक ध्यान देने तथा उसकी समस्याओं का तेजी से समाधान करने के साथ उसके पूर्ण राज्य के दर्जे को बहाल करने एवं चुनाव कराने की मांग उठनी स्वभाविक ही है.

मिली हुई जानकारी के अनुसार बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने सभी नेताओं द्वारा लोकतंत्र और संविधान पर भरोसा जताने पर खुशी जताई है. इसी के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि वो दिल की दुरी और दिल्ली की दुरी को खत्म करना चाहते हैं. उन्होंने ये भी कहा कि हमारे बीच राजनितिक मतभेद हो सकते हैं. लेकिन इसके बाद भी सभी को देशहित में काम करना चाहिए ताकि जम्मू कश्मीर को अधिक लाभ हो सके.

जानकारी के मुताबिक आपको बता दें कि बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी नेताओं से कहा है कि जब लोगों को भ्रष्टाचार मुक्त शासन मिलता है तो लोगों में भरोसा जन्म लेता है. इतना ही नहीं लोगों का सहयोग भी प्राप्त होता है. उन्होंने आगे कहा कि जम्मू कश्मीर में ये हमें देखने को मिल रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विकास कार्यों को लेकर संतुष्टि जताते हुए कहा कि प्रदेश के लोगों में उम्मीद जगा रही है. इतना ही नहीं बैठक के दौरान प्रधानमंत्री जी ने युवाओं का जिक्र करते हुए कहा कि युवा वर्ग को अवसर मिलना चाहिए. युवा देश को बहुत कुछ दे सकते हैं. जम्मू – कश्मीर में एक भी युवा का मृत्यु होना बहुत ही दुखद है और यहाँ के यवाओं की सुरक्षा हम सबकी जिम्मेदारी है.