किसान आंदोलन खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है, आन्दोलन को रफ्तार देने के लिए राकेश टिकैत ने किया ये बड़ा काम

देश में कोरोना महामारी ने सब कुछ अस्त-व्यस्त करके रखा हैं. हर व्यक्ति इस महामारी की चपेट से बचने का प्रयास कर रहा है. वहीं एक तरफ जहाँ देश कोरोना जैसे घातक महामारी से निपटने का प्रयास कर रहा हैं. वहां एक वर्ग ऐसा भी है जो देश के हालत को समझे बिना ही अपने कार्य को बढ़ावा देने में लगा है. बता दें कि किसानो के द्वारा किया जा रहा आंदोलन रुकने का नाम नहीं ले रहा है.

किसान नेता राकेश टिकैत और गुरनाम सिंह चढूनी बीते शनिवार को अपने समर्थकों के साथ हरियाणा के फतेहाबाद जिले के टोहाना सदर पुलिस थाने पहुंच गये और अपने साथी किसानों को रिहा करने की मांग की. बता दें कि गिरफ्तार किसानो को रिहा कराने के साथ ही उन लोगो ने स्थानीय जजपा विधायक देवेन्द्र बबली पर कथित रूप से दुर्व्यवहार करने का आरोप भी लगाया है. इतना ही नहीं किसान नेताओं ने देवेन्द्र बबली पर एफआईआर दर्ज कराने की मांग की है.

बता दें कि किसान नेता राकेश टिकैत और गुरनाम सिंह चढूनी और भी कई प्रदर्शनकारी किसानो को अपने साथ लेकर सबसे पहले अनाज मंडी में एकत्रित हुए और वही से गिरफ्तार करने के लिए पुलिस थाने तक मार्च किया. इस मार्च को ध्यान में रखते हुए अधिक संख्या में पुलिसबल की तैनाथी की गई. किसानों ने अपने प्रदर्शन में अपने 2 किसान साथियों को रिहा करने की मांग की जन्हें जजपा विधायक देवेंद्र बबली के आवास को घेराव करने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. इसी के साथ ही किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आने वाले 2024 तक जारी रहेगा ये किसान आन्दोलन.