राजस्थान में सियासी संग्राम के बीच पायलट गुट के विधायक ने गोविंद सिंह डोटासरा के खिलाफ मोर्चा खोला

राजस्थान कांग्रेस में बीते कुछ समय से कलह खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. दरअसल राजस्थान में गहलोत गुट और पायलट गुट में तनाव बढ़ता ही जा रहा है. वही पायलट गुट लगातार कैबिनेट में विस्तार को लेकर मांग कर रही है लेकिन गहलोत सरकार का इस पर कोई असर नहीं हो रहा और इसी वजह से राजस्थान में सियासी भूचाल अपने चरम पर पहुँच गया है.

जानकारी के लिए बता दें कि इस कलह के बीच अब पायलट गुट के विधायक वीरेंद्र सिंह ने संगठन को लेकर बिगुल फूंक दिया है. विधायक वीरेंद्र सिंह का कहना है कि 11 महीने से अधिक हो गया है, लेकिन संगठन का विस्तार नहीं हो सका है. पता हो कि वीरेंद्र सिंह का ये बयान ऐसे समय में आया है जब पायलट गुट और गहलोत गुट के बीच तनाव बना हुआ है और इस बयान के बाद एक बार फिर से सियासी भूचाल आ गया है.

इसके अलावा बता दें कि वीरेन्द्र सिंह ने कहा कि  39 सदस्यों को अपने कार्यसमिति में शामिल कर लिया. लेकिन डोटासरा फिर भी अकेले हैं. संगठन से सरकार बनती है, लेकिन यहां सरकार होने के बाद भी संगठन खाली है. इसी लिए अब गोविंद सिंह डोटासरा को चाहिए की जल्द से जल्द संगठन बनाएं. गौरतलब है कि राजस्थान में तनातनी का माहौल बना हुआ है. वही इस पूरे मामले पर कांग्रेस हाई कमान स्तर के नेताओं ने अपनी चुप्पी साध रही है. अब देखना ये होगा कि दोनों गुट में जारी कलह क्या नया मोड़ लेती है.