महाराष्ट्र की सियासत में नयी हलचल, दुश्मनी भुला कर अपने कट्टर विरोधी से मिलने पहुंचे देवेन्द्र फडणवीस

महाराष्ट्र की सियासत में एक बार फिर हलचल देखने को मिली है. भाजपा नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस अचानक अपने धुर विरोधी नेता से मिलने उनके घर पहुँच गए. जिस नेता से देवेन्द्र फडणवीस मिलने पहुंचे वो पहले भाजपा के ही कद्दावर नेता हुआ करते थे. लेकिन उनकी अदावत देवेन्द्र फडणवीस से इतनी बढ़ गयी कि उन्होंने भाजपा का दामन छोड़ कर एनसीपी में शामिल हो गए. इस नेता का नाम है एकनाथ खडसे. हालांकि फडणवीस की खडसे से मुलाकात नहीं हो पाई, क्योंकि वे फिलहाल मुंबई में हैं. बीजेपी का कहना है कि फडणवीस बीजेपी सांसद और खडसे की बहू रक्षा से सद्भावना भेंट के लिए गए थे.

देवेन्द्र फडणवीस इन दिनों राज्य भर के तूफ़ान प्रभावित इलाकों में घूम घूम कर नुकसान का जायजा ले रहे हैं. इसी सिलसिले में आज वो जलगांव के दौरे पर थे और एकनाथ खडसे के घर पहुंचे. महाराष्ट्र की सियासत में खडसे और फडणवीस को एक दूसरे कसा धुर-विरोधी माना जाता है. खड़े भाजपा छोड़ने के बाद फडणवीस पर जैम कर हमले किया करते थे. फडणवीस भी उन पर हमले करने का कोई मौका नहीं छोड़ते थे. लेकिन ऐसा लगता है कि रिश्तों पर जमी बर्फ पिघलाने के लिए ही फडणवीस खडसे के घर पहुंचे थे.

भाजपा भले ही इसे एक सद्भावना मुलाक़ात बता रही हो लेकिन जानकार बताते हैं कि ये एक सुनियोजित मुलाक़ात थी और इसका मकसद जलगांव के इलाके में भाजपा को हुए नुकसान का डैमेज कंट्रोल करना था. हालाँकि अभी तक फडणवीस के अपने घर पहुँचने को लेकर खडसे की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. फडणवीस इससे पहले शरद पवार से भी मुलाक़ात कर चुके हैं.