पार्टी में घमासान के बीच चिराग पासवान ने चाचा पारस पर साधा निशाना, कहा ‘ये लड़ाई अब लंबी चलेगी’

बिहार में तेजी से बदलते राजनीतिक घटनाक्रम में दिवंगत राम विलास पासवान की पार्टी लोजपा दो फाड़ हो गई. राम विलास पासवान के भाई पशुपति पारस के अपने ही भतीजे चिराग़ पासवान को एक के बाद एक बड़ा झटका देते जा रहे हैं. बता दें कि पहले उन्होंने अपने नेतृत्व में लोजपा के 6 में से 5 सांसदों को अपने साथ कर लिया. इतना ही नहीं इस सब के बाद चिराग़ पासवान को LJP के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया. जिसके बाद चिराग पासवान ने इस पर एक्शन लेते हुए पांचो सांसदों को पार्टी से निकाल दिया और इसके बाद से ही अब सियासी घमासान तेज़ हो गया है.

जानकारी के लिए बता दें LJP में मचे सियासी घमासान के बीच चिराग पासवान ने बुधवार को प्रेस कांफ्रेस की. इस दौरान उन्होंने अपने चाचा पशुपति पारस के साथ अपने विवाद को लेकर स्पष्ट करते हुए कहा कि मैं चाहता था कि परिवार की बात बंद कमरे में निपट जाए, लेकिन अब ये लड़ाई लंबी चलेगी और कानूनी तरीके से लड़ी जाएगी. इसके साथ ही चिराग ने कहा कि पिछले कुछ वक्त से मेरी तबीयत खराब थी, इसलिए मैं पिछले कुछ दिनों से बाहर नहीं आ पाया. सिर्फ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस से सबकुछ नहीं निपटेगा, ये लड़ाई लंबी है

इसके अलावा चिराग ने ये भी कहा कि पार्टी के संविधान के अनुसार सिर्फ संसदीय दल और खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष ही संसदीय दल के नेता को चुन सकता है, अगर चाचा कहते तो उन्हें संसदीय दल का नेता बना देता. साथ ही साथ चिराग ने ये भी कहा कि मैं रामविलास पासवान का बेटा हूं, मैं शेर का बेटा हूं.. पहले भी लड़ा था और आगे भी लड़ूंगा. बिहार की जनता हमारे साथ है, जनता दल यूनाइटेड की तरफ से बांटने की कोशिश की जा रही है. इन्होंने पहले भी दलितों को बांटने की कोशिश की है. जाहिर है कि बिहार की सियासी लड़ाई अब सड़कों तक आ गयी है और चिराग पासवान ने भी अब कड़े तेवर अपना लिए है और साफ़ कर दिया है कि ये लड़ाई अब लम्बी चलेगी.