महाराष्ट्र : महाविकास अघाड़ी सरकार में महाभारत, कांग्रेस ने कही अकेले चुनाव लड़ने की बात तो शिवसेना ने सामना के जरिये कसा तंज

एक बार फिर महाराष्ट्र के महाविकास अघाड़ी सरकार में अनबन तेज हो गई है. शिवसेना कांग्रेस पर सामना के जरिये हमला कर रही है. दूसरी तरफ कांग्रेस ने भी साफ़ कर दिया है कि वो राज्य में आगामी निकाय और विधानसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेगी. महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने अमरावती में कहा कि, ‘मैं प्रदेश का कांग्रेस अध्यक्ष हूं. इसलिए अपनी पार्टी के विचार भी मैं ही रखूंगा. किसी दूसरी पार्टी का कोई नेता कांग्रेस के विचार नहीं रखेगा. मुझे नहीं पता कि शरद पवार ने क्या कहा. लेकिन कांग्रेस ने यह साफ कर दिया है कि राज्य में अगले सभी स्थानीय निकाय चुनावों से लेकर विधानसभा चुनावों में पार्टी अकेले ही लड़ेगी.’

पटोले शरद पवार के जिस बयान की तरफ इशारा कर रहे थे वो बयान दरअसल एनसीपी नेता नवाब मलिक ने दिया था. राज्य के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक से एक निजी चैनल ने निजी बातचीत में जब ये पूछा कि क्या एनसीपी और शिवसेना के बीच ढाई ढाई साल के फ़ॉर्म्युले पर सीएम पद के बंटवारे का कोई फैसला हुआ है? तो जवाब में नवाब मलिक ने कहा, ‘ऐसी कोई बात नहीं है. उद्धव ही 5 साल सीएम रहेंगे और 5 साल ही क्यों 25 साल रहेंगे.’

उधर कांग्रेस पर शिवसेना ने सामना के जरिये करारा हमला बोला है. शुक्रवार सुबह सामना के संपादकीय में शिवसेना ने कांग्रेस को खरी-खरी सुनाते हुए लिखा, ‘मोदी-शाह-नड्डा से सीखो चुनाव जीतना.’ सामना में जीतीं प्रसाद के कांग्रेस छोड़ने पर भी तंज किया गया. सामना में लिखा गया, ‘जितिन प्रसाद कांग्रेस में थे, तब कांग्रेस को कोई फायदा नहीं हुआ और भाजपा में गए इसलिए भाजपा के लिए भी उपयोगी नहीं हैं. सवाल ये न होकर सिर्फ इतना ही है कांग्रेस पार्टी के बचे-खुचे दिग्गज भी अब नाव से कूद रहे हैं. ऐसा नहीं है कि ये सिर्फ उत्तर प्रदेश में हो रहा हो. हर राज्य में कांग्रेस की यही स्थिति है. राजस्थान में अब सचिन पायलट ने पार्टी नेतृत्व को विदाई की चेतावनी दे दी है.’