यूपी में भले ही न हों बोर्ड की परीक्षा लेकिन क्या वापस होगी एग्जाम फीस? जानिए क्या कहा बोर्ड ने

देश में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप अब धीरे धीरे कम होता जा रहा है. कई राज्यों में पिछले काफ़ी समय से चल रहे लॉकडाउन का असर अब दिखने लगा है. वहीं इस बीच केंद्र सरकार और राज्य सरकारों ने एक के बाद एक बड़े कदम उठाए हैं. PM मोदी ने अभी हाल ही में CBSE की 12 वीं की परीक्षा रद्द करने का फ़ैसला लिया था.

जानकारी के लिए बता दें CBSE की परीक्षा रद्द होने के बाद अब राज्य सरकारों ने भी बड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. अब तक कई राज्य भी बोर्ड की परीक्षा रद्द कर चुके हैं, जिसमें हरियाणा, गुजरात और मध्यप्रदेश शामिल है लेकिन सभी की नज़रें उत्तरप्रदेश सरकार के फ़ैसले पर है.

दरअसल यूपी बोर्ड में 12 वीं की परीक्षा अभी होने की संभावना है. वहीं 10 वीं के बच्चों को लेकर फ़ैसला हो गया है कि उन्हें प्रमोट कर दिया जाएगा. ऐसे में बच्चों ने बोर्ड की परीक्षाओं के लिए जो फ़ीस जमा की है उसका क्या होगा? क्या वो वापस की जाएगी? बोर्ड ने साफ़ किया है कि वो इस पैसे का क्या करेंगे.

ग़ौरतलब है कि यूपी बोर्ड के अनुसार उस फ़ीस का इस्तेमाल सर्टिफ़िकेट बनाने में किया जाएगा. यूपी बोर्ड के सचिव डीके शुक्ला के मुताबिक एग्जाम तो नहीं होंगे लेकिन एग्जाम फीस का प्रयोग परीक्षार्थियों के बनने वाले सर्टिफिकेट में किया जाएगा. यूपी में छात्रों ने अपनी एग्जाम फ़ीस पहले ही जमा कर दी थी. जिसमें 10 वीं के छात्रों ने 501 और 12 वीं के छात्रों ने 601 रूपये जमा किये थे.