जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर बीजेपी और सपा आई आमने सामने, जुबानी जं’ग हुई तेज़

उत्तरप्रदेश में जहाँ एक तरफ अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर हलचल मची हुई है. वही दूसरी तरफ अब जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर सियासत गरमा गयी है और नेताओं के बीच जबानी जं’ग शुरू हो गयी है. जिस वजह से अब UP का जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव काफी गरमाता हुआ दिखाई दे रहा है.

जानकारी के लिए बता दें कि जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर बीजेपी और सपा दोनों ही आमने सामने आ गयी है और जमकर एक दुसरे पर आरोप लगा रही है. बता दें कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने जहाँ बीजेपी पर आरोप लगते हुए कहा था कि ‘भाजपा ने जिस तरह से जिलों में पंचायत अध्यक्षों के नामांकन अलोकतांत्रिक तरीके से रोके हैं, उससे चुनाव की निष्पक्षता एवं पवित्रता नष्ट हुई है, यह लोकतंत्र की ह’त्या की साजिश है.’

उस पर अब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पलटवार करते हुए कहा है कि ‘समाजवादी पार्टी में जहां परिवार ही पार्टी तथा सरकार रही हो, उसके प्रमुख अखिलेश यादव का लोकतांत्रिक मूल्यों की दुहाई देना, शोभा नहीं देता है.’ साथ ही साथ सिंह ने अखिलेश यादव के आरोपों पर तंज कसते हुए ये भी कहा कि ‘अखिलेश यादव ने हार स्वीकार ली है और जवाबदेही से बचने के लिए अपने जिलाध्यक्षों पर हार का ठीकरा फोड़ रहे हैं. समाजवादी पार्टी 2014 से चुनाव दर चुनाव लगातार हार का सामना कर रही है, इसके बावजूद अखिलेश जी अभी ‘वर्क फ्रॉम होम’ में ही व्‍यस्‍त हैं.’ गौरतलब है कि जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर UP में सियासत तेज़ हो गयी है.