कोरोना की तीसरी लहर आने से पहले ही बच्चों के बचाव के लिए वैक्सीन लगना हो सकता है शुरू

देश में कोरोना की दूसरी लहर ने बहुत ही बुरे तरह से कहर बरपाया है. अभी धीरे – धीरे हम कोरोना के दूसरी लहर से उबर ही रहे थे कि तभी खबर मिली की कोरोन की तीसरी लहर भी आने वाली है. खबरों के अनुसार ये पता चला कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों को अधिक खतरा हैं. इसी वजह से सरकार बच्चो को कोरोना के तीसरी लहर से बचाने के लिए जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध कराने में लगी हुई है.

बता दें कि इस बात की जानकारी केन्द्र सरकार ने कराया हैं कि बच्चों के लिए कोरोना का टीका शीघ्र आ सकता है. केन्द्र सरकार के मुताबिक जायडस कैडिला के टीके को जल्द अनुमति दी जा सकती है. जिसका परीक्षण 12 से 18 वर्ष के आयु के बच्चों पर भी हुए हैं. हिंदुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार आपको बता दें कि नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने जानकारी देते हुए कहा कि अब कोवैक्सीन का बच्चों पर परीक्षण शुरू हुआ है जल्द से जल्द परीक्षण पूरा कर लिया जायेगा. क्योकि परीक्षण प्रतिरोधक क्षमता के होते हैं.

वहीं खुशी की बात ये है कि जायडस कैडिला की वैक्सीन के परीक्षण बच्चों पर हो चुके हैं. उन्होंने उम्म्मीद जताते हुए कहा कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो इस महीने के अंतिम दिनों तक बच्चो के वैक्सीन लाइसेंस के लिए आ सकती है. वैक्सीन को अनुमति देने के समय इसे बच्चों को देने पर भी निर्णय लिया जा सकता है. बता दें कि जो रिपोर्ट आया है उसमें स्पष्ट रूप से लिखा हुआ है कि जायडस कैडिला की वैक्सीन के तीसरी चरण का परीक्षण भी पूरा हो चूका है. परिक्षण में 800 – 100 बच्चे भी शामिल हैं. इन बच्चों की आयु 12 से 18 वर्ष के बीच है. इसलिए इस टीके को 12 वर्ष से लेकर 18 वर्ष के बच्चों के लिए भी अनुमति मिलने की उम्मीद की जा रही है. लेकिन अभी पूर्ण रूप से इस बात का फैसला नहीं किया गया है.