कांग्रेस आलाकमान से मीटिंग के बाद सिद्धू का बड़ा बयान, कहा सत्य प्रताड़ित हो सकता है लेकिन…

पंजाब में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी के अंदर आंतरिक कलह शुरू हो गयी है जोकि अब आलाकमान तक पहुंच गयी है. पंजाब में चल रही कलह को शांत करने के लिए राहुल गांधी ने मोर्चा संभाला है. पंजाब में कांग्रेस ईकाई में चल रही कलह को खत्म करने के लिए अब आलाकमान ने कमर कस ली है और इसके लिए तीन सदस्यीय टीम गठित की है.

जानकारी के लिए बता दें दिल्ली में पहले दिन 25 विधायकों के साथ प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के साथ तीन सदस्यों वाली केंद्रीय कमेटी ने वॉर रूम में मंथन किया और सभी विधायकों से अलग अलग बातचीत की. वहीँ आज कैप्टन अमरिंदर सिंह से नाराज चल रहे नवजोत सिंह सिद्दू से कमेटी ने बातचीत. कांग्रेस आलाकमान से हुई मीटिंग के बाद सिद्धू ने बड़ा बयान दिया है.

सिद्धू ने मीटिंग के बाद कहा ‘सत्य प्रताड़ित हो सकता है, लेकिन पराजित नहीं हो सकता.’ राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की अध्यक्षता वाली समिति के समक्ष अपनी बात रखते हुए सिद्धू ने संवाददाताओं से कहा, ‘आलाकमान के बुलावे पर आया था. उन्होंने पार्टी के बारे में जो पूछा उस बारे में उन्हें सजग कर दिया.’ सिद्धू ने अपने बयान में आगे पंजाब के हक़ को लेकर बात कही.

गौरतलब है कि सिद्धू ने कहा ‘मेरा रुख था, है और रहेगा कि पंजाब के लोगों की ताकत जो सरकार के पास जाती है वह लोगों के वापस आनी चाहिए…सत्य प्रताड़ित हो सकता है, लेकिन पराजित नहीं हो सकता.’ सिद्धू ने कहा, ‘पंजाब के हक की आवाज मैंने आलाकमान को बताई. जीतेगा पंजाब, जीतेगी पंजाबियत और जीतेगा हर पंजाबी.’ पंजाब में चुनाव से पहले आंतरिक कलह शुरू हो गयी है. वहीँ पिछले कुछ समय से सिद्धू और CM कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच जमकर जुबानी जंग चल रही है. वहीँ विधायक परगट सिंह समेत प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कुछ अन्य नेताओं ने मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है.