पीएम की मीटिंग से पहले गुपकार गठबंधन में दरार, फारुख अब्दुल्ला ने महबूबा के पाकिस्तान प्रेम वाले बयान से किया किनारा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 जून यानी आज जम्मू-कश्मीर की सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं को मीटिंग के लिए बुलाया है. जिसके साथ ही सियासी भूचाल भी शुरू हो गया है. जानकारी के लिए बता दें कि एक तरफ जहाँ सभी नेताओं को न्योता भेजा जा चुका है. वही दूसरी तरफ पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के एक बयान को लेकर सियासत गरमा गयी है.

जानकारी के लिए बता दें कि मीटिंग से पहले महबूबा मुफ़्ती ने पाकिस्तान का राग अलापते हुए कहा था कि भारत सरकार को कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान से भी बातचीत करनी चाहिए. जिस पर राजनीति तेज़ हो गयी है. वही दूसरी तरफ महबूबा के बयान से किनारा करते हुए फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि कोई एजेंडा नहीं है, हम अपनी बात रखेंगे और पीएम-गृह मंत्री से बात करेंगे, ताकि रियासत में शांति आए. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि हमारे चाहने का सवाल नहीं है. चाहते तो हम आसमान हैं. पहले हम पीएम मोदी से बात करेंगे, बाद में मीडिया से बात करेंगे. 

साथ ही साथ फारुक अब्दुल्ला ने ये भी कहा कि वो उनका एजेंडा है, हम अलग-अलग पार्टी हैं ऐसे में ये उनकी बात है. जाहिर है कि आज पीएम मोदी संग होने वाली बैठक पर सभी की नजर है. साथ ही कश्मीर मामलों पर पीएम मोदी और बाकी नेता अपना अपना क्या पक्ष रखते है और आगे क्या फैसला लिया जायेगा ये एक अहम् मुद्दा है. साथ ही इस बैठक के बाद कश्मीर की रियासत पर क्या कुछ असर देखने को मिलेगा और किन किन मुद्दों पर चर्चा हो सकती है इसका पता भी मीटिंग के बाद चल सकता है.