बड़ी खबर : जानिए अचानक से क्यों किसान नेता राकेश टिकैत मिलने जा रहें हैं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से

देश एक तरफ जहाँ कोरोना जैसी घातक महामारी से निपटने में लगा हुआ है वहीं देश के कुछ लोग ऐसे हैं जिनको बस अपनी जिद्द को पूरा करने की कोशिश में लगे हुए हैं. इनको और किसी भी चीज से कोई फर्क नहीं पड़ता हैं. हम बात कर रहें हैं किसानो के द्वारा किये जा रहे आन्दोलन के बारे में बता दें कि किसी तरह से देश में विकराल रूप धारण किये हुए कोरोना महामारी को काबू में किया गया है और अब धीरे – धीरे कोरोना संक्रमण का मामला घटता हुआ दिखयी दे रहा है. इसी तरह दूसरी ओर किसान नेता अपनी आन्दोलन को गति देने में लगे हुए हैं.

बता दें किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत आज यानि बुधवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कोलकाता में मुलाकात करेंगे. किसान नेता राकेश टिकैत और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का ऐसे समय में मुलाकात करना यही बताता है कि ममता बनर्जी बंगाल से बाहर अपना वर्चस्व स्थापित करने के तैयारी में हैं. वहीं किसान नेता राकेश टिकैत भी अपनी आन्दोलन को तेज करने के प्रयास में लगे हैं.

आईये जान लेते हैं है कि किसान नेता राकेश टिकैत की योजना के बारे में बता दें कि राकेश टिकैत पहले ही बता चुके हैं कि वह खुद चुनाव नहीं लड़ेंगे लेकिन देश भर को जागरूक करने का काम अवश्य करेंगे. इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए किसान नेता राकेश टिकैत कृषि कानून के खिलाफ देश के अलग – अलग राज्यों में जाकर किसान पंचायत के नाम पर जनसभाएं कर रहें हैं. किसान नेता राकेश टिकैत के द्वारा किया जा रहा यह कार्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ माहौल बनाने की कवायद के तौर पर भी देखा जा रहा है.

बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी प्रारम्भ से ही केन्द्र सरकार के द्वारा लाए गये कृषि कानूनों के खिलाफ बोलती रहीं हैं. उन्होंने दिल्ली की सीमा पर चल रहे किसान आन्दोलन का अपना भरपूर समर्थन किया था. इतना ही नहीं किसान आन्दोलन को और अधिक तीव्र करने के लिए टीएमसी के तमाम सांसद भी राजधानी दिल्ली की सीमा पर दस्तक दिए थे. बता दें कि आज यानि बुधवार को बंगाल में किसानों की बैठक होने वाली है. बैठक के बाद किसान नेता राकेश टिकैत मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलने वाले हैं और उन्हें चुनाव में मिली जीत की बधाई देंगे. फिर किसान आन्दोलन पर विशेष चर्चा की जायेगी.